Astrology: नवरात्र से दीपावली तक सर्वार्थ सिद्घि योग, जानिये क्या होगा इसका शुभ फल

Astrology। कोरोना महामारी एवं ग्रहों के कारण मंदी झेल रहे व्यापार को उबरने का अवसर नवरात्र से दीपावली तक मिलने जा रहा है।

नवरात्र से लेकर दीपावली तक कई शुभ योग आ रहे हैं, जिससे बाजार फिर से गुलजार होंगे। साथ ही गृहप्रवेश, मांगलिक कार्य आदि भी प्रारंभ हो जाएंगे।

ज्योतिषाचार्य एचसी जैन के अनुसार नवरात्र से दीपावली तक इस साल लगातार सर्वार्थ सिद्घि योग, अमृत सिद्घि योग, रवि योग बनेंगे। इन योगों की मदद से बाजारों में फिर से रौनक लौटेगी। साथ ही जनता रोग एवं भय से मुक्त होगी।

इस समय यह बनेंगे योग

नवरात्र के प्रारंभ 17 अक्टूबर को सर्वार्थ सिद्घि योग रहेगा। इसके बाद यह योग 19, 23, 24, 29, 30 अक्टूबर को रहेगा।

जबकि नवंबर माह में 2, 4, 5, 6, 8, 11, 14, 16 को सर्वार्थ सिद्घि योग रहेंगे। वहीं अक्टूबर माह में 18, 20, 24, 29 एवं नवंबर में 5, 7, 17 को रवि योग रहेगा।

इसी प्रकार 8 नवंबर दीपावली से पहले रविपुष्य योग रहेगा। वहीं 25 अक्टूबर को विजय दशमी पर अबूझ मुहूर्त रहेगा।

इसी प्रकार 31 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा, 13 नवंबर को धनतेरस, 14 नवंबर को दीपावली, महालक्ष्मी पूजन रहेगा।

साथ ही 19 अक्टूबर को द्विपुष्कर योग, 20 को सौभाग्य योग, 21 अक्टूबर को ललिता पंचमी पर बुधवार एवं सोभन योग का दुर्लभ संयोग रहेगा।

सर्वार्थ सिद्घि योग का यह है महत्व

सर्वार्थ सिद्घि योग में आरंभ किए गए किसी भी कार्य में सफलता मिलती है, जब कोई विशेष मुहूर्त नहीं बनता है तो इस योग के साथ शुभ, लाभ, अमृत की चौघड़िया के साथ कार्य करने से सफलता मिलती है। यह योग राजकीय, व्यापारिक, मैत्री, चुनाव, लेखन परीक्षा व अन्य कार्यों के लिए विशेष शुभ है।