Babri Masjid Case : कोर्ट के फैसले से गदगद आडवाणी तो ओवैसी ने शायराना अंदाज में मारा ताना

नई दिल्ली Babri Masjid Case । अयोध्या में विवादित ढांचे के विध्वंस के मामले में 28 साल बाद सीबीआई की विशेष कोर्ट ने फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती सहित सभी 32 आरोपी बरी कर दिया है। सीबीआई कोर्ट के विशेष जज एसके यादव ने अपने फैसले में कहा कि विवादित ढांचे का विध्वंस कोई पूर्व नियोजित घटनाक्रम नहीं था। इसका साफ मतलब है कि सभी आरोपियों ने पहले से इसे गिराने को लेकर कोई साजिश नहीं रची। अशोक सिंघल के बारे में जज ने कहा कि उनके खिलाफ भी कोई सबूत नहीं है, जो तस्वीरें पेश की गईं, उन्हें साक्ष्य नहीं माना जा सकता है। कोर्ट का फैसला आते ने कोर्ट परिसर में जय श्रीराम के नारे लगने लगे और देशभर में राममंदिर समर्थकों में खुशी की लहर छा गई। वहीं नेताओं ने भी अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दी।

फैसले पर ये बोले लालकृष्ण आडवानी

कोर्ट के फैसले के बाद लालकृष्ण आडवानी ने कहा कि आज हमारे लिए खुशी का दिन है और मैं पूरे दिल से कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं। उन्होंने कहा कि यह निर्णय रामजन्मभूमि आंदोलन के प्रति मेरे व्यक्तिगत और भाजपा के विश्वास और प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

मुरली मनोहर जोशी ने फैसले को बताया ऐतिहासिक

वहीं, भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी ने कोर्ट के फैसले को ऐतिहासिक बताया है। जोशी ने कहा कि अदालत के फैसले से साबित होता है कि अयोध्या में 6 दिसंबर की घटना के लिए कोई साजिश नहीं रची गई थी। हमारा कार्यक्रम और रैलियां किसी साजिश का हिस्सा नहीं थे। जोशी ने कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुए कहा कि सभी को अब राम मंदिर निर्माण के लिए उत्साहित होना चाहिए।

फैसला आने के बाद कांग्रेस पर बरसे योगी आदित्यनाथ

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कोर्ट के फैसले पर खुशी जताई। मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा, ‘सीएम फैसले का स्वागत करते हैं। यह साबित करता है कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने वोट बैंक की राजनीति के लिए संतों, भाजपा नेताओं, विहिप के पदाधिकारियों को बदनाम करने के इरादे से फंसाया था। इस साजिश के लिए जिम्मेदार लोगों को राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए।

देर से सही लेकिन न्याय की जीत हुई

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कोर्ट के फैसले के बाद कहा कि लखनऊ की विशेष अदालत द्वारा बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में लालकृष्ण आडवाणीजी, कल्याण सिंह, मुरली मनोहर जोशी, उमाजी समेत 32 लोगों के किसी भी षड्यंत्र में शामिल न होने के निर्णय का मैं स्वागत करता हूं। इस निर्णय से यह साबित हुआ है कि देर से ही सही मगर न्याय की जीत हुई है।

ओवैसी ने शायराना अंदाज में दी प्रतिक्रिया

बाबरी विध्वंस केस पर आए फैसले पर ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर सवाल उठाए। ओवैसी ने शायराना अंदाज में लिखा ”वही कातिल, वही मुंसिफ, अदालत उस की वो शाहिद, बहुत से फैसलों में अब तरफदारी भी होती है। वहीं बॉलीवुड अभिनेत्री स्वारा भास्कर ने भी कोर्ट के फैसले पर ट्वीट करते हुए लिखा कि ”बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गई थी.”