14 Train Canceled: कृषि विधेयकों के विरोध में पंजाब में रेल ट्रैक पर बैठे किसान, रेलवे ने रोकी ट्रेनें

जालंधर [जेएनएन/एएनआइ]। कृषि विधेयकों (Agricultural bill) के विरोध में किसान अब आक्रामक रुख अपनाएंगे। किसानों ने सड़क मार्ग पर चक्का जाम के साथ-साथ ट्रेनेें रोकने का एलान भी किया है। फिरोजपुर रेल मंडल ने एहतिहातन अमृतसर से चलने वाली सभी 14 स्पेशल ट्रेनों को 24 सितंबर सुबह छह बजे से 26 सितंबर रात 12 बजे तक रद करने के आदेश जारी किए हैं।

कृषि बिल के विरोध में बरनाला में सुबह से ही किसान सड़कों पर उतर आए। उन्होंने दुकानदारों से दुकानेंं बंद करने की अपील भी की। कांग्रेस, अकाली दल, आम आदमी पार्टी सहित विभिन्न संगठन किसानों के समर्थन में आए आगे। इसके बाद किसानों ने रेलवे ट्रेक पर तंबू गाड़ दिया और वहां धरने पर बैठ गए।

पटियाला के नाभा में भी किसान रेलवे ओवर ब्रिज के नीचे भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई में धरने पर बैठ गए हैं। किसानों ने कहा कि कृषि विधेयकों से किसानों पर मार पड़ेगी। नाभा के डीएसपी राजेश छिब्बर किसानों से बातचीत करने के लिए पहुुंचेे हैं।

नाभा में रेलवे ओवरब्रिज के नीचे धरने पर बैठे किसान। फोटो – जागरण

अमृतसर में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी से जुड़े कार्यकर्ता आज सुबह से रेलवे ट्रेक पर जमे हैं। किसानों ने रेल रोको अभियान शुरू किया है। कमेटी के सदस्यों ने कहा कि उनका रेल रोको अभियान 26 सितंबर तक जारी रहेगा।

राज्य की 31 किसान जत्थेबंदियों की को-ऑर्डिनेशन कमेटी 25 को विभिन्न मार्गों पर धरना देगी। भाकियू के किसान नेता सतवंत सिंह ने बताया कि राज्यभर में आढ़ती मंडियों को बंद रखेंगे। वहीं, बुधवार को गुरदासपुर में किसान मोर्चा (औलख) ने गुरदासपुर-चंडीगढ़ मार्ग पर जाम लगाया। पूर्व सैनिकों और कलानौर में पंथक अकाली लहर ने पीएम मोदी का पुतला जलाया। दीनानगर में किसानों ने झंडा मार्च निकाला।

फतेहगढ़ साहिब में लोक इंसाफ पार्टी (लिप) ने दिल्ली के लिए मोटरसाइकिल रैली रवाना की। इसकी अगुआई लिप विधायक सिमरजीत सिंह बैंस व उनके भाई बलविंदर सिंह बैंस ने की। इसे हरियाणा पुलिस ने बॉर्डर पर रोक लिया। पुलिस को पानी की बौछार भी की। राजपुरा-अंबाला नेशनल हाईवे पर 14 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। ट्रैफिक को डायवर्ट करना पड़ा।

संगरूर में मजूदर, पटवारियों व आढ़तियों ने किसानों के धरने को समर्थन किया। बरनाला के तपा में दुकानदारों से किसानों से समर्थन मांगा व बाइक मार्च निकाला गया। मोगा में शिवसेना बाल ठाकरे ने बंद का समर्थन किया है। फरीदकोट के कोटकपूरा में कांग्र्रेस ने धरना दिया। इसमें आढ़ती एसोसिएशन भी शामिल हुई। मानसा में किसानों ने रोष मार्च निकाला। मुक्तसर में सीपीआइ (एम) ने पुतला जलाया। फिरोजपुर व अबोहर में भी किसानों ने पुतले जताए। बठिंडा में भी किसानों ने धरना दिया। फाजिल्का में पनबस कर्मचारियों ने किसानों का समर्थन किया।

शिअद भी करेगा चक्का जाम

शिरोमणि अकाली दल 25 सितंबर को छह जगह चक्का जाम करेगा। विधायक पवन टीनू ने सभी अकाली नेताओं से धरने में शामिल होने की अपील की। लुधियाना के मुल्लांपुर दाखा में शिअद विधायक विधायक मनप्रीत सिंह अयाली के नेतृत्व में किसानों ने धरना दिया। वहीं, जालंधर के करतारपुर में कलाकारों ने प्रदर्शन किया। सिख तालमेल कमेटी भी किसानों के समर्थन में आ गई है।

शंभू बॉर्डर पर बेरिकेड लगा रोका, रात तक धरने पर बैठे रहे बैंस समर्थक

कृषि विधेयकों के खिलाफ प्रदर्शन कर संसद घेरने दिल्ली जा रहे लोक इंसाफ पार्टी के कार्यकर्ताओं को हरियाणा पुलिस ने शंभू बॉर्डर पर बैरिकेड्स लगा रोका। प्रदर्शनकारियों पर हरियाणा पुलिस ने पानी की बौछारें कीं लेकिन बैंस समर्थक रातभर वहीं डटे रहे। छह घंटे तक राजपुरा-अंबाला राष्ट्रीय राजमार्ग बंद रहा जिससे 14 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। बाद में आवाजाही सुचारू करने के लिए राजपुरा के गगन चौक से जीरकपुर-लालड़ू के रास्ते वाहनों को भेजा गया।

विधायक सिमरजीत सिंह बैंस के नेतृत्व में सैकड़ों समर्थक दोपहर बाद पंजाब-हरियाणा बॉर्ड पर पहुंचे थे लेकिन हरियाणा पुलिस ने पहले ही बेरिकेडिंग कर रखी थी। वर्करों ने बैरियर तोडऩे की कोशिश की और इस दौरान उनकी पुलिस से झड़प भी हुई। लोक इंसाफ पार्टी के नेता सिमरजीत सिंह बैंस ने घग्गर नदी से पैदल हरियाणा में प्रवेश करने की कोशिश की लेकिन हरियाणा पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। बाकी कार्यकर्ताओं ने बॉर्डर पर ही धरना दे दिया।

इससे पहले विधायक सिमरजीत बैंस व बलविंदर बैंस ने गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब में माथा टेक रैली शुरू की। बैंस ने कहा कि केंद्र सरकार ने कृषि विधेयक नहीं, किसानों के डेथ वारंट जारी किए हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री व अखिल भारतीय जाट महासभा का अध्यक्ष होने के नाते सर्व पार्टी मोर्चे की अगुआई करके दिल्ली की तरफ कूच करना चाहिए। मुख्यमंत्री जब विधेयकों का विरोध हकीकत में करेंगे तो केंद्र की हिम्मत नहीं होगी कि वे इसे लागू कर सकें। नवजोत सिद्धू के चुप्पी तोडऩे पर कहा कि देर आए दुरुस्त आए…।

अमृतसर से चलने वाली सभी 14 ट्रेनें आज से 26 सितंबर तक रद

कृषि विधेयकों के विरोध में किसान संगठनों ने रेल यातायात जाम करने का एलान किया है। ऐसे में रेल यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए फिरोजपुर रेल मंडल ने अमृतसर से चलने वाली सभी 14 स्पेशल ट्रेनों को 24 सितंबर सुबह छह बजे से 26 सितंबर रात 12 बजे तक रद करने के आदेश जारी किए हैं। जिन यात्रियों ने इन दिनों के लिए टिकट बुक करवाई हैं, उन्हें पूरे पैसे रिफंड किए जाएंगे।

डीआरएम ने इस संबंध में मीटिंग की और वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए स्थानीय अधिकारियों के साथ बातचीत की। आदेश के मुताबिक अमृतसर से चलने वाली मुंबई सेंट्रल, अमृतसर से कोलकाता, अमृतसर से न्यू जलपाईगुड़ी, अमृतसर से बांद्रा टर्मिनल, अमृतसर से नांदेड़ साहिब, अमृतसर से हरिद्वार, अमृतसर से जयनगर, अमृतसर से नई दिल्ली, अमृतसर से डिब्रूगढ़, धनबाद, क्लोन ट्रेनों में अमृतसर से न्यू जलपाईगुड़ी, जयनगर और बांद्रा टर्मिनल शामिल हैं। अगर किसानों का आंदोलन दो दिन से बढ़ता है तो ट्रेनों को आगे भी रद किया जा सकता है। वहीं, मालगाडिय़ों का संचालन आंदोलन की स्थिति को देखते हुए किया जाएगा।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber