स्वास्थ्य मंत्री का भरोसा- मार्च से पहले तैयार हो जाएगी वैक्सीन

Advertisements

coronavirus vaccine, covid-vaccine news..

कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार ने संकेत दिए हैं कि हाई-रिस्क ग्रुप यानी बुजुर्गों और फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स के लिए कोरोना वैक्सीन को जल्दी अप्रूव किया जा सकता है। अब तक वैक्सीन जारी करने को लेकर कोई तारीख फिक्स नहीं है, फिर भी स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने उम्मीद जताई है कि अगले साल मार्च से पहले वैक्सीन तैयार हो जाएगी। वहीं, अमेरिकी कंपनी फाइजर ने दावा किया है कि उसका वैक्सीन इसी साल दिसंबर से पहले अमेरिकी मार्केट में आ जाएगी। आप भी जान लीजिए कि कोरोना को काबू करने के लिए जिस वैक्सीन का इंतजार हो रहा है, उस पर दुनियाभर में क्या डेवलपमेंट हुए हैं।

भारत भी चल सकता है रूस और चीन की राह पर

  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोशल मीडिया पर संडे संवाद कार्यक्रम में कहा कि सरकार हाई-रिस्क ग्रुप्स यानी बुजुर्गों और फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स के लिए वैक्सीन को जल्द अप्रूवल दे सकती है। इस पर सबको राजी करने की कोशिश की जा रही है।
  • हर्षवर्धन की बातों से साफ संकेत है कि रूस और चीन की तर्ज पर भारत में भी वैक्सीन को जल्द से जल्द अप्रूवल देकर हाई-रिस्क ग्रुप्स के लिए इसे जारी किया जा सकता है। रूस ने अपने SPUTNIK V और चीन ने अपने तीन वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल दे दिए हैं।
  • भारत में तीन वैक्सीन के ट्रायल्स चल रहे हैं। भारत बायोटेक और आईसीएमआर कोवैक्सिन विकसित कर रहे हैं। अहमदाबाद की कंपनी जायडस कैडीला का वैक्सीन फेज-2 के ट्रायल्स में है। पुणे का सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका के कोवीशील्ड के फेज-2 और फेज-3 ट्रायल्स कर रहा है।

दुनियाभर में वैक्सीन पहुंचने में लग सकते हैं चार-पांच साल

  • दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन मैन्युफैक्चरिंग कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने एक इंटरव्यू में कहा है कि दुनियाभर में सबको 2024 के अंत तक वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने वाली। उन्होंने कहा कि हर देश में हर जगह वैक्सीन पहुंचाने में चार-पांच साल लग जाएंगे।
  • पूनावाला ने फाइनेंशियल टाइम्स से कहा कि कंपनी ने एस्ट्राजेनेका और नोवावैक्स समेत पांच कंपनियों से पार्टनरशिप की है। एक बिलियन डोज बनाने की तैयारी है। इसमें से आधे तो भारत में उपलब्ध होंगे। कंपनी रूस के गामालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट से भी पार्टनरशिप करने की तैयारी में है ताकि SPUTNIK V को मैन्युफैक्चर किया जा सके। ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका के वैक्सीन के ट्रायल्स यूके में एक व्यक्ति के बीमार होने के बाद रोक दिए गए थे। लेकिन अच्छी बात यह है कि ब्रिटेन में वैक्सीन के ट्रायल्स दोबारा शुरू हो रहे हैं। इसके लिए कंपनी को अनुमति मिल गई है। फिलहाल सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया को भारत में ड्रग रेगुलेटर से ट्रायल्स दोबारा शुरू करने की अनुमति का इंतजार है।
  • सीरम इंस्टिट्यूट को ड्रग रेगुलेटर ने कारण बताओ नोटिस जारी किया था। इसका जवाब सीरम इंस्टिट्यूट ने भेज दिया है। जल्द ही भारत में भी कोवीशील्ड के रुके हुए ट्रायल्स गति पकड़ सकते हैं। हालांकि, फिलहाल इस संबंध में कोई भी औपचारिक बयान नहीं आया है।
Advertisements