ऑक्सीजन सिलेंडर कमी :दमोह में स्टाक खत्म, जबलपुर से मंगाए, कटनी में दो गुनी खपत

Advertisements

भोपाल। कोरोना काल में महाकोशल में कोरोना मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। संभावना व्यक्त की जा रही है कि मरीजों के मिलने से ऑक्सीजन की डिमांड भी बढ़ेगी ऐसे में जिलों में पर्याप्त आक्सीजन की व्यवस्था करना जरूरी होगा। सिवनी जिले की बात की जाए तो यहां पर महाराष्ट्र से होने वाली ऑक्सीजन सिलेंडरों की सप्लाई बंद हो गई। फिलहाल, सिलेंडर जबलपुर से बुलाए जा रहे हैं, लेकिन यदि अचानक मरीजों की संख्या बढ़ी तो ऑक्सीजन सप्लाई का काम प्रभावित हो सकता है।

दमोह: सिलेंडर कम होते ही अधिकारियों की फूली सांस

जिले में अब तक महाराष्ट्र सहित अन्य जगहों से ऑक्सीजन सिलेंडर की पूर्ति हो रही थी, लेकिन गुरुवार से हालत बिगड़ गए हैं। दरअसल, पिछले 10 दिनों में 300 के करीब पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। गुरुवार को जिला अस्पताल के पास नाममात्र ऑक्सीजन सिलेंडर ही रह गए थे। जबलपुर से शाम तक 90 सिलेंडर पहुंचने थे, लेकिन इसके पहले व्यवस्था फेल होने के डर से तत्काल ही व्यवस्था कराने कहा गया।

वहीं जबलपुर गई एक एंबुलेंस में ही लोड करके सिलेंडर आनन-फानन में बुलाए गए। इस संबंध में सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने बताया कि पिछले 10 दिनों से ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत बढ़ी हैं। पहले जो खपत 110-120 प्रतिदिन हो रही थी, वह अब 150 से 180 ऑक्सीजन सि लेंडर तक पहुंच गई हैं।

शहडोल: रोजाना लग रहे 120 सिलेंडर

जिले में जहां एक माह में करीब 600 ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत थी, अब रोजाना करीब 120 सिलेंडर लग रहे हैं। कई बार तो एक घंटे में ही पांच से छह सिलेंडर खत्म हो जाते हैं। करीब चार दिन पहले रात में गाड़ी नहीं आने के कारण सिलेंडर का स्टाक काफी कम बचा था। जिला चिकित्सालय में भी स्टाक नहीं था, तब अनूपपुर जिले से और धनपुरी से सिलेंडर की व्यवस्था की गई थी।

कटनी : दोगुनी हुई खपत

जिला अस्पताल में आक्सीजन की खपत दोगुना हो चुकी है। संक्रमण के पहले जहां हर दिन 7-8 सिलेंडर की खपत होती थी अब 15 सिलेंडर से अधिक खपत हो रहे हैं।

बालाघाट: स्टाक में सिलेण्डर

जिले में बनाये हुए कोविड सेंटर में 40 ऑक्सीजन सिलेण्डर दिए गए थे, जिसमें से अब तक 7 सिलेण्डर छोटे-बड़े मिलाकर खर्च हुए हैं। कोविड सेंटर में गंभीर मरीजों को उपचार हेतु नहीं रखा जाता हैं उन्हें छिंदवाड़ा मेडिकल रेफर कर दिया जाता है। जिले के सीएमएचओ डॉ मनोज पाण्डे का कहना है कि सिलेंडर की कोई कमी नहीं हैेंं । ऑक्सीजन सिलेंडर पर्याप्त मात्रा में रखे हुए हैं।

नरसिंहपुर: तीन गुना खपत

जिले में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के साथ ही आक्सीजन सिलेण्डर की खपत तीन गुना बढ़ गई है। पूर्व में जहां महज 350 जम्बो सिलेण्डर की मांग थी जो बढक़र अब 1 हजार पर पहुंच गई है। इसके अलावा 2-3 सौ छोटे सिलेण्डर प्रतिदिन लग रहे हैं।

मंडला : मांग बढ़ी

जिला अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में ऑक्सीजन की खपत दोगुना हो गई है। रोजाना आठ से दस सिंलेडर की खपत हो रही है। राहत की बात यह है कि इधर जुलाई माह में ही करीब 178 आक्सीजन सिलेंडर आए थे , जिनमें एक सैंकड़ा सिलेंडर स्टॉक में है।

डिंडोरी : स्टाक पर्याप्त

जिले में 40 ऑक्सीजन सिलेण्डर दिए गए थे , जिसमें से अब तक 7 सिलेण्डर छोटे-बड़े मिलाकर खर्च हुए हैं। वर्तमान में 38 भरे सिलेंडर सिविल अस्पताल में अतिरिक्त हैं जिनकी आवश्यकता होने पर रिपलेक्स में उपयोग किया जाता हैं।

Advertisements