चट्टान तोड़ने लापरवाही से लगाया बारूद, विस्फ़ोट से ओएचई और ट्रेन पर बरसे पत्थर

Advertisements

Jabalpur News : जबलपुर रेल मंडल के इंजीनियरिंंग विभाग की लापरवाही से डुंडी रेलवे स्टेशन पर बडा हादसा हो गया। स्टेशन से लगी पत्थरों की चट्टानें तोडने के लिए बारूद लगाकर धमाका किया गया। यह धमाका इतना बडा था कि हुआ कि डुंडी स्टेशन पर खडी ट्रेन से लेकर ट्रैक और ओएचई यानि ओवरहेड इक्विपमेंट पर भारी पत्थरों की बरसात होने लगी, जिससे ओएचई टूट कर रेल लाइन पर जा गिरी और ओएचई के खंबे को भारी नुकसान हो गया।

घटना शुक्रवार तकरीबन दोपहर 12 से 1 के बीच की है। इस घटना के सामने आते ही जबलपुर रेल मंडल के आला अधिकारी इसे छिपाने में जुट गए, लेकिन घटना का वीडियो वायरल हो गया। सूत्र बताते हैं कि पत्थरों को तोडने के लिए रेलवे ने निजी कंपनी की मदद ली थी, लेकिन कंपनी के बारूद एक्सपर्ट ने यहां तय मात्रा से ज्यादा बारूद लगा दिया।

इसे भी पढ़ें-  जम्मू-कश्मीर में 14 ठिकानों पर NIA की छापेमारी, ड्रोन हमले को लेकर कर रही जांच

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जिस समय ब्लॉस्ट हुआ, उस वक्त पुणे-पटना ट्रेन आने वाली थी। वहीं रेलवे स्टेशन पर खाली ट्रेन का एक रैक खडा था, जिस पर भारी भरकम पत्थर गिरे। एक बडा पत्थर ओएचई के ख्बे पर आकर गिरा, जिससे वह ट्रैक की ओर झुक गया और ओएचई टूट गई। सूत्रों के मुताबिक कटनी-बीना तीसरी रेल लाइन पर गुजरात की वीआरएस कंपनी को ब्लॉस्ट का काम दिया गया है, यही कंपनी के एक्सपर्ट डुंडी स्टेशन के पास ही ब्लास्ट कर रहे थे। इस घटना से 4 से 5 घंंटे तक जबलपुर-कटनी रेल ट्रैक बाधित रहा।

डुंडी स्टेशन के पास पत्थरों की चट्टानें हैं, जिस हटाने के लिए एक्सपर्ट की मदद से ब्लॉस्ट कराया गया। कुछ पत्थर ट्रैक पर गिरे, जिससे ओएचई टूट गई। हालांकि घटना इतनी बडी नहीं है कि जांच कराई जाए।

इसे भी पढ़ें-  NIA Raids in Jammu Kashmir: एनआइए ने जम्मू व कश्मीर में 14 ठिकानों पर मारे छापे

संजय विश्वास,डीआरएम जबलपुर रेल मंडल

Advertisements