मेयर के शपथ ग्रहण समारोह में हंगामा, राष्ट्रगीत का अपमान

अलीगढ़ : मंगलवार को उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव में विजयी रहे 16 मेयर शपथ ग्रहण करेंगे। इसी क्रम में अलीगढ़ में शपथ ग्रहण समाहोह का आयोजन किया गया था। जिस दौरान राष्ट्रगीत का समाजवादी पार्टी के साथ ही बहुजन समाज पार्टी के कई नेताओं ने विरोध किया। अलीगढ़ के नुमाइश मैदान में मेयर के शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रगीत वंदे मातरम बजने के दौरान समाजवादी पार्टी तथा बहुजन समाज पार्टी के नेता इसके सम्मान में खड़े नहीं हुए। शपथ ग्रहण समारोह के दौरान राष्ट्रगीत बजने पर सपा व बसपा के कई नेता अपनी कुर्सी पर बैठे रहे।
yashbharat
मेयर की गाड़ी पर पथराव, पुलिस ने मुश्किल से निकाला
अलीगढ़ में नगर निगम की कुर्सी 22 साल से बीजेपी के पास थी। इस बार इस पर बीएसपी ने कब्जा कर लिया है। बीजेपी के कार्यकर्ताओं को बीएसपी की यह जीत रास नहीं आ रही है। इसका उदाहरण शपथ ग्रहण  समारोह में देखने को मिला। सदन में पहले से अल्पमत बसपा के पार्षदों ने शपथग्रहण समारोह में जो आचरण दिखाया, उससे एक बार फिर तमाम मर्यादाएं धूमिल होती नजर आईं। कृष्णांजलि नाट्यशाला में समारोह की शुरुआत वंदे मातरम के साथ हुई। इस दौरान बसपा के मुस्लिम पार्षद खड़े  तक नहीं हुए। इससे भाजपाई बिफर गए और बसपा के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करने लगे। इसे लेकर पूर्व विधायक जमीरउल्लाह खां की भाजपाइयों से खूब नोक-झोंक भी हुई।
अफसरों ने जैसे-तैसे माहौल संभाला, लेकिन शपथ ग्रहण के दौरान बसपा के वार्ड 54 से पार्षद मसर्रत ने उर्दू तर्जुमा करके बोलना शुरू कर दिया। इसे लेकर फिर हंगामा शुरू हो गया। भाजपाइयों ने जो हिंदू की बात करेगा, वही देश पर राज करेगा, हिंदुस्तान में रहना होगा तो वंदे मातरम कहना होगा जैसे नारे लगाने शुरू कर दिए। बता दें कि मसर्रत ने पहले भी उर्दू में शपथ दिलाने की मांग की थी, जिसे निगम ने खारिज कर दिया था। बसपा के महापौर मोहम्मद फुरकान और पार्टी ने भी भाषा विवाद को गलत बताते हुए पल्ला झाड़ लिया था।

Hide Related Posts