31 जुलाई तक बेटी के नाम खोलें ये खाता, 21 साल की उम्र में अकाउंट में होंगे 64 लाख रुपए

Advertisements
Advertisements

नई दिल्ली आज के महंगाई के दौर में बेटियों का भविष्य वित्तीय रूप से सुरक्षित करना मां-बाप की सबसे बड़ी जिम्मेदारियों में से एक है. अपने साथ-साथ अपनी बेटी के भविष्य को भी वित्तीय रूप से सुरक्षित (Financial Security) बनाना बेहद जरूरी है. बेटी के भविष्य को संवारने के लिए सरकार की सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Scheme 2020) बड़े काम की है. सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Scheme) में निवेश कर आप अपनी बेटी की उच्च शिक्षा और शादी के खर्चों को आसानी से पूरा कर सकते हैं. इस योजना में बेटी के 21 साल पूरे होने पर रिटर्न पाया जा सकता है. अगर आप बेटी की कम आयु में ही योजना में निवेश करना शुरू कर देते हैं, तो इस स्कीम में 15 सालों तक निवेश कर सकते हैं. आइए जानते हैं कैसे बेटी के लिए जमा कर सकते हैं 64 लाख रुपए.

नए खाता खोलने के लिए सरकार ने दी बड़ी छूट
सरकार ने सुकन्या समृद्धि खाता खोलने के लिए पात्रता मानदंडों में कुछ छूट की घोषणा की है. पोस्ट ऑफिस (Post Office) के नए दिशानिर्देशों के मुताबिक, सुकन्या समृद्धि खाता 31 जुलाई, 2020 को या उससे पहले उन बेटियों के नाम से खोला जा सकता है, जिनकी उम्र 25 मार्च, 2020 से 30 जून, 2020 तक लॉकडाउन की अवधि के दौरान 10 वर्ष पूरी हो चुकी है. इस छूट से उन बेटियों के पेरेंट्स को मदद मिलेगी जो लॉकडाउन के कारण सुकन्या समृद्धि खाता नहीं खोल सकते थे. अन्यथा, सुकन्या समृद्धि खाते केवल जन्म की तारीख से 10 वर्ष की आयु तक ही खोले जा सकते हैं.

सुकन्या समृद्धि अकाउंट स्कीम 2020 डिपॉजिट

एक वित्तीय वर्ष के दौरान किसी एक अकाउंट में अधिकतम 1.5 लाख रुपये तक जमा किया जा सकता है. वहीं, एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम जमा राशि 250 रुपये है. इसका मतलब है कि किसी एक अकाउंट में एक वित्तीय वर्ष में आप अधिक से अधिक 1.5 लाख रुपये और कम से कम 250 रुपये तक निवेश कर सकते हैं. अगर कोई व्यक्ति गलती से इस खाते में एक 1.5 लाख रुपये से अधिक जमा कर देता है यह रकम ब्याज के ​लिए नहीं कैलकुलेट किया जाएगा. साथ ही इस रकम को डिपॉजिटर्स के खाते में रिटर्न कर दिया जाएगा. इस खाते में 15 साल तक डिपॉजिट किया जा सकता है.

अगर इस अकाउंट में एक वित्तीय वर्ष के दौरान न्यूनतम रकम नहीं जमा किया जाता है तो 15 साल की अवधि के दौरान इसे कभी भी रेग्युलराइज किया जा सकता है. इसके ​लिए हर साल के हिसाब से 50 रुपये की पेनाल्टी देनी होगी.

कितना मिल रहा ब्याज
सुकन्या समृद्धि योजना में इस समय 7.6 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा है. इस योजना में खाता खुलवाते समय जो ब्याज दर रहती है, उसी दर से पूरे निवेश काल के दौरान ब्याज मिलता है. सरकार ने पोस्‍ट ऑफिस सेविंग अकाउंट समेत सभी स्‍मॉल सेविंग स्‍कीम (Small Saving Schemes) में किए गए निवेश पर जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए मिलने वाले ब्‍याज की दरों में कोई बदलाव नहीं (Interest Rates Unchanged) किया है.

मैच्योरिटी पर मिलेंगे 64 लाख रुपए
मौजूदा ब्याज दर के हिसाब से अगर हर वित्तीय वर्ष में 1.5 लाख रुपये 15 साल तक जमा किया जाता है तो इस पर आपके द्वारा जमा किया गया कुल रकम 22,50,000 रुपए होगा और इस पर ब्याज 41,36,543 रुपए बनेगा. हालांकि, यह अकाउंट 21 साल पूरे होने के बाद मैच्योर होगा. ऐसे में अकांउट पर जमा किए गए रकम पर ब्याज मिलता रहेगा. 21 साल तक यह रकम ब्याज के साथ बढ़कर करीब 64 लाख रुपए हो जाएगा. आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि सुकन्या समृद्धि योजना पर मिलने वाला ब्याज केंद्र सरकार हर तिमाही में तय करती है. ऐसे में मैच्योरिटी तक ब्याज दर में कई बार बदलाव हो सकते हैं.

Advertisements
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: