एक जुलाई से जबलपुर जिले में “किल कोरोना अभियान” लोगों से स्वास्थ्य की जानकारी लेने घर-घर पहुंचेंगें सर्वे दल

Advertisements
Advertisements

जबलपुर, (यश भारत अपडेट@आशीष शुक्ला) संस्कारधानीजबलपुर कोरोना के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा अभियान प्रदेश भर में एक जुलाई में प्रारंभ किया जायेगा। किल कोरोना के नाम से संचालित किये जाने वाले इस अभियान के तहत स्वास्थ्य, आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर पहुंचेंगे और लोगों से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी लेंगे।

डोर-टू-डोर सर्वे के इस अभियान कोरोना के साथ ही मलेरिया, डेंगू एवं अन्य मौसमी बीमारी से पीडि़त मरीजों को भी चिन्हित किया जायेगा और उनका स्वास्थ्य परीक्षण भी किया जायेगा।

किल कोरोना अभियान की जबलपुर जिले में जोर-शोर से तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं। डोर-टू-सर्वे के लिए गठित दलों का प्रशिक्षण आज से प्रारंभ हो गया है। सोमवार 29 जून को भी यह प्रशिक्षण होगा।

कलेक्टर भरत यादव ने बताया कि जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में 1 जुलाई से एक साथ शुरु किये जा रहे किल कोरोना अभियान के तहत घर-घर सर्वे के लिए आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं की 2500 पायलट टीमें गठित की गई हैं। जबकि 371 मुख्य टीमें बनाई गई हैं। जिसमें स्वास्थ्य कार्यकर्ता और एएनएम शामिल होंगे।

श्री यादव ने बताया कि पायलट दल जिलों के शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के हर घर पहुंचेंगें। लोगों से उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेगें। पायलट टीमों की जानकारी के आधार पर मुख्य टीमें कोरोना संदिग्ध कोरोना मरीजों अथवा डेंगू, मलेरिया या मौसमी बीमारियों से पीडि़त लोगों के घर पहुंचेंगी। उनका परीक्षण करेगी, दवाईयां भी प्रदान करेगी और आवश्यकता होने पर उनका सेम्पल भी लेंगी।

कलेक्टर श्री यादव ने बताया कि इस अभियान के तहत घर-घर सर्वे के लिए गठित मुख्य दलों का मास्क, गलब्ज और हेंड सेनिटाइजर लोगों को वितरित करने के लिए उपलब्ध कराये जाएंगे। इसके साथ ही इन दलों को ऑक्सीजन सेचुरेशन की जांच के लिए पल्स ऑक्सीमीटर, तापमान नापने के लिए थर्मल स्केनर भी उपलब्ध किये जा रहे हैं। मलेरिया की रेपिड टेस्ट किट भी मुख्य दल के पास होगी। टीमें अपने साथ बायो मेडिकल वेस्ट कलेक्शन के लिए अलग से बैग भी रखेंगी।

श्री यादव ने बताया कि कोरोना अभियान के साथ कोरोना संदिग्ध को चिन्हित करने तथा डेंगू, मलेरिया व डायरिया जैसी मौसमी बीमारियों के मरीजों की पहचान के लिए चलाये जा रहे इस अभियान के तहत गर्भवती एवं धात्री महिलाओं की जांच भी होगी। तथा टीकाकरण अभियान के तहत छूट गये बच्चों का भी सर्वे किया जायेगा।

उन्होंने बताया कि अभियान के तहत कोरोना प्रोटोकॉल के मुताबिक ट्रेवल्स हिस्ट्री वाले, कोरोना के लक्षण वाले अथवा कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आये व्यक्तियों का डेटा एकत्र किया जायेगा। डेटा सार्थक एप पर ऑनलाइन भी होगा। कलेक्टर ने बताया कि किल कोरोना अभियान के तहत डोर-टू-डोर सर्वे में पाये गये कोरोना संदिग्धों के बड़ी संख्या में सेम्पल लिए जाएंगे।

कलेक्टर ने किल कोरोना अभियान को अब तक सबसे बड़ा स्वास्थ्य सर्वे अभियान बताया है। उन्होंने जिले के सभी नागरिकों में इस अभियान सफल बनाने में सहयोग का अनुरोध किया है। कलेक्टर ने नागरिकों से सर्वे के लिए घर आने वाली टीमों को पूरी और सही-सही जानकारी देने का आग्रह भी किया। श्री यादव ने कहा कि लोगों के सहयोग से ही कोरोना को खत्म करने में मदद मिलेगी।

लाइव सार्थक एप डाउनलोड करने की अपील
कलेक्टर श्री यादव ने की जानकारी देने किल कोरोना अभियान के साथ-साथ जिले के नागरिकों से सार्थक एप का लाइव वर्जन मोबाइल पर डाउनलोड करने का आग्रह भी किया है। उन्होंने कहा कि लाईव सार्थक एप से लोगों को कोरोना संबंधी अपडेट जानकारी उपलब्ध होगी।

Advertisements