GPS को टक्कर देने के लिए चीन ने लॉन्च किया आखिरी सैटेलाइट, अरबों डॉलर के बाजार की दौड़ में शामिल

Advertisements
Advertisements

बीजिंग। चीन ने मंगलवार को अमेरिका के जीपीएस नेटवर्क को टक्कर देने के लिए तैयार किए गए अपने होमग्रोन जियोलोकेशन सिस्टम में अंतिम उपग्रह लॉन्च किया। यह नेविगेशन के अरबों डॉलर के आकर्षक बाजार में हिस्सेदारी के लिए चीन का एक बड़ा कदम है। दक्षिण-पश्चिमी सिचुआन प्रांत में लॉन्च के फुटेज को सरकारी प्रसारक सीसीटीवी ने दिखाया। इसमें दिख रहा था कि हरे-भरे पहाड़ों की पृष्ठभूमि में रॉकेट उड़ान भर रहा है और कुछ दर्शक अपने मोबाइल फोन से इसका वीडियो बना रहे हैं।

चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि Xichang सैटेलाइट लॉन्च सेंटर से Beidou-3GEO3 उपग्रह का प्रक्षेपण मूल रूप से पिछले मंगलवार को होना था, लेकिन अनिर्दिष्ट तकनीकी मुद्दों की वजह से इसमें देरी हुई। उपग्रह नेटवर्क के पूरा हो जाने के बाद चीन अरबों डॉलर की जियोलोकेशन सर्विस मार्केट में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी बन जाएगा।

Beidou को लॉन्च करने का उद्देश्य अमेरिका के ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (GPS), रूस के ग्लोनास (GLONASS) और यूरोपीय संघ के गैलीलियो (Galileo) को टक्कर देना है। हार्वर्ड-स्मिथसोनियन सेंटर फॉर एस्ट्रोफिजिक्स के एक खगोल विज्ञानी जोनाथन मैकडॉवेल ने कहा कि मुझे लगता है कि Beidou-3 सिस्टम का चालू होना एक बड़ी घटना है। यह चीन का एक बड़ा निवेश है और चीन को अमेरिका और यूरोपीय प्रणालियों से स्वतंत्र बनाता है।

चीन ने साल 1990 के दशक की शुरुआत में कारों, मछली पकड़ने की नौकाओं और सैन्य टैंकरों को देश के अपने उपग्रहों के डेटा का उपयोग करके नेविगेट करने में मदद करने के लिए अपने वैश्विक नेविगेशन प्रणाली को बनाने का काम शुरू किया था। अब इस सेवा का इस्तेमाल लाखों मोबाइल फोन पर नजदीकी रेस्तरां, पेट्रोल स्टेशन या सिनेमाघरों की तलाश करने से लेकर टैक्सियों और मानवरहित ड्रोन उड़ाने के लिए किया जा सकता है।

Beidou द्वारा प्रदान किया गया कवरेज साल 2012 से व्यावसायिक उपयोग में है, लेकिन यह पहले एशिया-प्रशांत क्षेत्र तक ही सीमित था। हालांकि, दुनिया भर में अब यह सेवा साल 2018 से उपलब्ध है। यह प्रणाली लगभग 30 उपग्रहों के नेटवर्क पर काम करती है। चीनी सरकारी मीडिया के अनुसार, आपदा और अन्य सेवाओं के दौरान बचाव कार्यों का मार्गदर्शन करने के लिए, पाकिस्तान और थाईलैंड सहित लगभग 120 देश पोर्ट ट्रैफिक निगरानी के लिए बेइडू की सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं।

Advertisements