RGPV Exam70 फीसदी छात्र नहीं भर सके आरजीपीवी परीक्षा फॉर्म

Advertisements
Advertisements

भोपाल। राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा इंजीनियरिंग के अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं होनी हैं। इसके लिए फॉर्म जमा होने का सिलसिला समाप्त हो गया था। इस दौरान आरजीपीवी को अंतिम सेमेस्टर में पढ़ने वाले छात्रों में से सिर्फ 30 फीसदी छात्रों के ही परीक्षा फॉर्म मिले हैं। इस वजह से आरजीपीवी को दोबारा परीक्षा फॉर्म जमा करने शुरू करने पड़े हैं। आरजीपीवी का कहना है कि एक तो सरकार से भी स्कॉलरशिप छात्रों को अब तक नहीं मिल सकी है। ऊपर से लॉकडाउन की वजह से छात्रों के परिजनों पर आर्थिक संकट आने से वे कॉलेजों की फीस नहीं दे पा रहे हैं। इस कारण प्राइवेट कॉलेज उनके फॉर्म जमा नहीं करवा रहे हैं। अब आरजीपीवी सरकार को पत्र लिखकर जल्द स्कॉलरशिप जारी करने की मांग करेगा। साथ ही आरजीपीवी का कहना है कि वे प्रयास कर रहे हैं कि आर्थिक संकट के कारण छात्रों को परीक्षा से वंचित नहीं होना पड़े, इसके लिए वे प्रयास कर रहे हैं।

दरअसल, आरजीपीवी की यूजी के अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा इसी महीने होना है। इसके लिए अंतिम तारीख तक सिर्फ 12 हजार परीक्षा फॉर्म आरजीपीवी को मिले हैं। जबकि आरजीपीवी से संबद्ध प्राइवेट और सरकारी कॉलेजों के अंतिम सेमेस्टर में पढ़ने वाले छात्रों की संख्या करीब 40 हजार है। 28 हजार छात्रों ने अब तक परीक्षा फॉर्म जमा नहीं किए हैं। इस वजह से आरजीपीवी ने अब 8 जून तक परीक्षा फॉर्म जमा करने की तारीख बढ़ा दी है। इतनी कम संख्या में फॉर्म मिलने की वजह जब आरजीपीवी ने जानी तो पता चला कि छात्र प्राइवेट कॉलेजों की फीस जमा नहीं कर पाए हैं, इस वजह से उनके परीक्षा फॉर्म जमा नहीं करवा रहे हैं।

प्राइवेट कॉलेजों को भी संचालन के लिए उनके स्टाफ को वेतन देना है। उन्होंने भी स्पष्ट कर दिया है कि फीस जमा करने पर ही फॉर्म जमा करवाकर फॉरवर्ड किया जाएगा। वहीं, प्रदेश सरकार ने भी एसटी, एससी और ओबीसी वर्ग को दी जाने वाली स्कॉलरशिप की राशि अब तक नहीं दी है। जबकि, नियमानुसार इस राशि को मार्च में ही छात्रों के खाते में दे दिया जाना चाहिए था। आर्थिक संकट के कारण प्रदेश सरकार दो महीने बाद भी यह राशि जारी नहीं कर सकी है। इस वजह से छात्र कॉलेजों में फीस जमा नहीं कर सके हैं।

छात्रों की स्कॉलरशिप की राशि जल्द से जल्द जारी हो सके इस बारे में राज्य सरकार से चर्चा की जाएगी। कम संख्या में छात्रों के परीक्षा फॉर्म मिलने पर दोबारा इसे जमा करने का अवसर छात्रों को दिया गया है। आरजीपीवी का प्रयास है कि फीस नहीं जमा करने के कारण किसी की परीक्षा नहीं छूटनी चाहिए। –प्रो. सुनील कुमार, कुलपति आरजीपीवी

Advertisements
error: Content is protected !!