Lockdown 4.0: 31 मई के बाद बढ़ सकता है छूट का दायरा

Advertisements

कोरोना संक्रमण के चलते देश में लागू किए गए चौथे चरण के लॉकडाउन की अवधि 31 मई को खत्म होने जा रही है। केंद्र ने 25 मार्च को लॉकडाउन घोषित किया था जो अब तक जारी है। हालांकि लॉकडाउन 4.0 में ही केंद्र की ओर से जनता और उद्योग जगत को कई राहत दी गई है। वहीं दूसरी ओर माना जा रहा है कि 31 मई के बाद केंद्र सरकार राज्य सरकारों के ऊपर ही छोड़ सकती है कि उनकी स्टेट में किस तरह के प्रतिबंध लागू रहेंगे। वहीं दूसरी ओर केंद्र सरकार इंटरनेशनल फ्लाइट्स पर लागू प्रतिबंधों के साथ ही स्कूल, कॉलेजों को भी फिलहाल शुरू करने पर लगा प्रतिबंध जारी रख सकती है।

इसे भी पढ़ें-  School Reopen: मध्य प्रदेश में एक जुलाई से खुल सकते हैं स्कूल!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लॉकडाउन को लेकर उठाए गए सभी कदमों का रोजाना रिव्यू होगा जब तक सारे प्रतिबंध नहीं हटा लिए जाते हैं। केंद्र सरकार आने वाले दिनों में लॉकडाउन को लेकर अपनी भूमिका को काफी सीमित कर सकती है। इसमें सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर जारी किए गए निर्देशों का पालन सहित कोविड 19 मैनेजमेंट जैसे फेस मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जैसे निर्देश हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 17 मई को आखिरी बार लॉक़डाउन को लेकर गाइडलाइन जारी की थी।

– पाबंदियों के साथ धार्मिक स्थलों खोलने पर विचार।

– कंटेनमेंट जोन के छोड़कर जिम खोलने की मंजूरी संभव।

इसे भी पढ़ें-  अब योग पर भी नेपाल ने किया दावा, पीएम केपी शर्मा ओली की बिगड़ी बोली- भारत में नहीं हुई थी शुरुआत

– शिक्षण संस्थानों, स्कूल, कॉलेज को बंद रखा जाएगा।

– देश के ज्यादातर हिस्सों में पाबंदियां में छूट संभव।

– लॉकडाउन-5 में 11 शहरों पर जोर रहेगा।

– दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरू, पुणे में सख्ती जारी रह सकती है।

– इंदौर, चेन्नई अहमदाबाद, जयपुर, सूरत, कोलकाता पर पूर्ण पाबंदी संभव।

कोरोना मरीज डेढ़ लाख के करीब

देश में लॉकडाउन में ढील देने के बाद कोरोना संक्रमण की रफ्तार काफी बढ़ गई है। ऐसे में केंद्र सरकार ये जिम्मेदारी राज्य सरकारों पर छोड़ सकती है कि उनके राज्य में लॉकडाउन का कैसा स्वरुप रहेगा। इस बीच देश में 2 महीने से जारी लॉकडाउन के बावजूद कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 1.5 लाख के करीब पहुंच गई है। वहीं मृतकों की संख्या 4 हजार के ऊपर हो चुकी है।

Advertisements