Jabalpur: गर्मी का सितम, दोपहर में ही पारा 42 पर

जबलपुर,(यशभारत)। नौतपा सोमवार से शुरू हो रहे हैं, लेकिन इसकी भीषणता का अंदाज दो दिन पहले से लगने लगा है। शुक्रवार को जहां अधिकतम तापमान सीजन में पहली बार 43.7 पर पहुंचा है और आज इसके 44 डिसे पर जाने के आसार है। समाचार लिखे जाने तक पारा 42 डिग्री पर जा पहुंचा था।

जो जानकारी मिली है उसके अनुसार महाकौशल के ज्यादातर शहरों में अधिकतम तापमान 45 डिग्री या इससे ज्यादा रहने के आसार हैं। आज सुबह से सूरज की तपन लोगों को बैचेन कर रही थी। सोमवार 25 मई से सूर्य का रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश होने से धरती का तापमान तेजी से बढ़ेगा।

इस दौरान लोगों को भयानक गर्मी सहन करनी होगी । लू चलने लगेगी। तापमान एक से दो डिग्री तक बढ़ सकता है। शनिवार की सुबह से ही गर्मी चरम स्तर की तरफ बढ़ रही है। शुक्रवार को तापमान 44 डिग्री के आसपासपहुंच गया।

यह सीजन का सबसे गर्म दिन रहा। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक फिलहाल दिन गर्म रहने वाले हैं। राहत के आसार नहीं है। हालांकि, अप्रैल का महीना पिछले साल के मुकाबले कमजोर था, 2019 में 28 अप्रैल को तापमान 44.1 डिग्री रहा था। 2017 में 14 अप्रैल को तापमान ने 44 डिग्री के आंकड़े को छू लिया था। हालांकि, तापमान रफ्तार पकड़ रहा है, ऐसे में गर्मी तेज होने के आसार बन गए हैं। मौसम विभाग बताया हवा का रुख बदलने के कारण गर्मी बढ़ी है। ऐसा ही मौसम आगामी पूरे हफ्ते

रहेगा। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 43.7 डिग्री व न्यूनतम तापमान 23.7 डिग्री रहा। सुबह आर्द्रता 24 प्रतिशत रही।
तीन वजह… जिनके कारण तापमान बढ़ा
1 मई में सोलर रेडिएशन ज्यादा हो रहा है। इसलिए धरती गर्म हो रही।
2 वेस्टर्न डिस्टरबेंस का असर अब मैदानी इलाकों में नहीं हो रहा है।
3 हवा का रुख पश्चिमी या उत्तर पश्चिमी है, गुजरात से राजस्थान से गर्म हवा आ रही है।

*नगर में जल संकट विकराल ,गुस्से में लोग*
* टंकियां सूखी,नल सूखे, टेंकर गायब*

*जबलपुर,यशभारत।* वैसे भी शहर के कई वार्ड पानी की किल्लत के लिए जूझ रहे थे । अब रमनगरा से मेडिकल होते हुए नगर निगम द्वारा बिछाई गई ग्लसास रेमकोर्ट पाइप (जीआरपी) शुक्रवार की दोपहर फूटने से शहर की आधी आबादी को अब बूंद-बूंद पानी के लिए तरसना पड़ रहा है। शुक्रवार को रमनगरा मेन पाइप लाइन क्षतिग्रस्त हो गई, जिसके कारण रमनगरा से भरी जाने वाली 16 टंकियों को नहीं भरा जा सका जिससे 35 से ज्यादा वार्डों में पानी की जबरदस्त किल्लत हो रही है। टेंकर न आने से भी लोगों में भारी गुस्सा है।
शुक्रवार की सुबह कई क्षेत्रों में जलापूर्ति की खबर सुनकर लोग उस ओर दौड़े पर 5 से 10 मिनट के बाद ही पानी आना बंद हो गया। जिससे उन्हें निराशा हुई।कई क्षेत्रों में तो लोगों ने अपने निजी ट्यूब बैल से लोगों को पानी दिया तो कुछ गिने चुने क्षेत्रों में बोरिंग से ही काम चलाया गया पर। कई जगह लोग टेंकरों का इंतजार करते रहे । इसी बीच निगमायुक्त आशीष कुमार ने बताया कि क्षतिग्रस्त पाइन लाइन सुधार कार्य तेज गति से चल रहा है, शीघ्र ही सुधार कार्य कराकर । उनकस कहना है कि रमजान त्यौहार के अवसर पर शहर के नागरिकों को भरपूर पेयजल की आपूर्ति कराई जायेगी। पर ये कैसे संभव होगा। उन्होंने कहा था कि 22 टैंकरों से दोनो समय नागरिकों को भरपूर पेयजल की सप्लाई कराई जायेगी। पर कई क्षेत्रों में तो टेंकर ही नहीं पहुंचे। उन्होंने बताया कि सुधार कार्य के दौरान भी नागरिकों को पेयजल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। पर हकीकत इसके उलट है। कई वार्डों में लोग पानी के लिए इधर उधर भटकते दिखाई दिए। शहर के कई घनी आबादी वाले इलाक़े हर साल पानी की किल्लत से जूझते हैं। वहाँ टेंकरों से पेयजल प्रदाय किया जाता है। टेंकर आते ही भीड़ का जमावड़ा हो जाता है। यही हाल नल खुलने के वक्त देखे जा सकते हैं। हर साल की तरह इस साल भी जलसंकट की स्थिति बन गई । आज जिस क्षेत्र में हैंड पाइप काम कर रहे हैं वहां अल सुबह से पानी भरने वालों की भीड़ जुट गई थी। यह भीड़ शहर के लिए कहीं प्रकोप न बन जाए। इसलिए यह बहुत आवश्यक हो गया है कि कोरोना रोकथाम में लगे अफ़सरान इस ओर विशेष ध्यान दें। जहां टेंकरों को भेजा जा रहा है वहांजल वितरण के वक्त फिजि़़िकल डिस्टन्स का कड़ाई से पालन करवाएँ, वरना एक ही झटके में उनकी अब तक की सारी मेहनत चौपट हो जाएगी।

ये टंकियां नहीं भरीं
रमनगरा मेन पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने से जिन टंकियों में पानी नहीं भर पाया उनमें बिड़ला धर्मशाला टंकी, मेडिकल टंकी, त्रिपुरी टंकी, बेदी नगर टंकी, गुलौआ टंकी, राइट टाउन टंकी, सर्वोदय नगर टंकी, रामेष्वरम टंकी, मनमोहन नगर टंकी, मदर टेरेसा नगर टंकी, लक्ष्मीपुर टंकी, मोती नाला टंकी, कोतवाली टंकी, लेमा गार्डन टंकी, आनंद नगर टंकी, मिल्क स्कीम टंकी, किलकारी गार्डन टंकी, गोहलपुर टंकी।
ये क्षेत्र हुए प्रभावित हुए
मुख्य रूप से मेडिकल कॉलेज के आस-पास का क्षेत्र, गढ़ा का क्षेत्र, राइट टाउन रानीताल चौक के आस-पास का क्षेत्र, सर्वोदय नगर, कोतवाली सराफा, दमोहनाका, मिलौनीगंज, गोहलपुर, आनंद नगर, मक्का नगर, एवं अधारताल, मोती नाला, आदि क्षेत्रों में जलप्रदाय नहीं हो पाने से लोगों में गुस्सा भी देखा जा रहा