छतरपुर से पंडित जी ने पढ़े मंत्र, इंजीनियर जोड़े ने बैंगलुरू में रचाई शादी

Advertisements

छतरपुर ।LockDown in Madhya Pradesh छतरपुर के एक सब इंस्पेक्टर ने लॉकडाउन का पालन करते हुए अपने बेटे की शादी की रस्में छतरपुर से ही पूरी करा दीं। छतरपुर से ही पंडित जी ने ऑनलाइन मंत्रोच्चार किए उधर बैंगलुरू में इंजीनियर जोड़े ने वरमाला, फेरों आदि की रस्में निभाईं।

पुलिस कप्तान कुमार सौरभ के रीडर एवं पूर्व यातायात प्रभारी केपी सिंह परिहार के दो बेटे बैंगलुरू में इंजीनियर हैं। पिट स्टॉक कंपनी में इंजीनियर छोटे बेटे शशांक की शादी बैंगलुरु एमेजॉन कंपनी में कार्यरत इंजीनियर रश्मि से तय हुई। लॉकडाउन में विवाह में तमाम समस्याएं थीं तो अगले वर्ष शादी टालने में लालदान लग रहा था लिहाजा परिहार परिवार ने लॉकडाउन में ही वैवाहिक रस्में पूरी कराने का निश्चय किया।

4 मई को मंडप, 5 मई को मातृ का पूजन उपरांत 6 मई को उपनिरीक्षक केपी सिंह परिहार ने शहर के शांतिनगर कालोनी में रहने वाले पंडित अखिलेश पाठक को अपने छत्रसाल नगर स्थित निवास पर बुलाया। पंडित अखिलेश पाठक मंत्रोच्चार कर रहे थे उधर बैंगलुरू में शशांक और रश्मि वैवाहिक रस्में पूरी करते जा रहे थे।

सब इंस्पेक्टर केपी सिंह परिहार, उनकी धर्मपत्नि सरोज ने बेटे और वधू को ऑनलाइन आशीर्वाद प्रदान किया। शादी बैंगलुरू में लड़की रश्मि के निवास स्थल महादेव पुरा से शशांक के बड़े भाई मयंक के सानिध्य में संपन्न् हुई। इस ऑनलाइन विवाह के साक्षी शशांक के बड़े भाई के अलावा उसके दोस्त और बहू के परिजन थे।

लॉकडाउन में बड़े बेटे को लगा लालदान, अब शादी सर्दियों में

उप निरीक्षक केपी सिंह परिहार बताते हैं कि उनका बड़ा बेटा मयंक भी बैंगलुरू में इंजीनियर है। उसकी शादी लॉकडाउन में तय हुई थी लेकिन उसकी शादी में लालदान अभी लगने के कारण उसका विवाह सर्दियों तक टाल दिया गया।

Advertisements

error: Content is protected !!