मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर पहुंचे हजारों प्रवासी मजदूर, पुलिस से कहा- हमें अपने गांव जाने दो; पुलिस ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा

Advertisements
Advertisements

मुंबई. महाराष्ट्र कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है। यहां संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। मंगलवार को 121 नए मामले सामने आए। राज्य में मरीजों की संख्या 2455 और मरने वालों का आंकड़ा 162 तक पहुंच गया।

मुंबई में मरने वालों की तादाद 100 के पार पहुंच गई है। इस बीच, मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर हजारों लोगों की भीड़ जमा हो गई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन लोगों का कहना है कि हमारे पास खाने को कुछ नहीं है। हमें अपने गांव वापस जाने दिया जाए। पुलिस प्रशासन ने इन लोगों को समझाने की कोशिश की और इन पर लाठीचार्ज भी करना पड़ा।

इस घटना के बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि मंगलवार शाम करीब 4 बजे हजारों लोग बांद्रा स्टेशन के बाहर जमा हो गए थे। ये सभी मजदूर थे और लॉकडाउन के चलते अपने घरों में मौजूद थे। उन्हें भरोसा था कि लॉकडाउन खत्म हो जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ इसलिए वह अधीर होकर घरों से बाहर निकल आए और अपने राज्य या अपने गांव जाने की मांग करने लगे। फिलहाल वहां से सारी भीड़ डिस्पर्स हो चुकी है और हम उनके खाने-पीने का इंतजाम कर रहे हैं।

सरकार का लाठीचार्ज से इनकार

देशमुख ने मजदूरों पर लाठीचार्ज की घटना से इनकार किया। उन्होंने कहा कि सरकार के नुमाइंदों और पुलिसकर्मियों ने उन्हें समझाने में कामयाबी हासिल की है और वे सभी शांति से वहां से चले गए। लेकिन, मौके से मिली जानकारी के मुताबिक, लोगों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। साथ ही पूरे इलाके को खाली कराने के लिए भी बल प्रयोग किया गया। मुंबई में अलग-अलग राज्यों से आकर लाखों मजदूर काम करते हैं।

भाजपा का आरोप- सरकार ने इंतजाम नहीं किए 
भाजपा विधायक आशीष शेलार ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार विस्थापित मजदूरों के लिए सही इंतजाम नहीं कर पा रही है। इसी से डरे मजदूर आज सड़कों पर उतर आए।

Advertisements