Bhopal में 133 केस / आईएएस अधिकारी और उनका बेटा कोरोना पॉजिटिव

Advertisements

भोपाल. कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। भोपाल में शनिवार को आईएएस अफसर गिरीश शर्मा समेत उनका बेटे समेत 12 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। पिता-पुत्र को चिरायू अस्पताल में भर्ती कराया गया। 25 मार्च को इन्हें स्वास्थ्य संचालनालय में अटैच किया गया था। भोपाल में कोरोना से संक्रमित होने वाले आईएएस अफसरों की संख्या तीन हो गई है। इससे पहले हेल्थ कॉर्पोरेशन के एमडी और आयुष्मान योजना के सीईओ जे विजय कुमार और स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल भी कोरोना से संक्रमित हो चुकी हैं। शहर में अब तक 133 लोग संक्रमित हो गए हैं।

आईएएस अफसर जे विजय कुमार की 2 अप्रैल को कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आई थी। इसके बाद 4 अप्रैल को सीनियर आईएएस अधिकारी पल्लवी जैन गोविल की जांच रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। पल्लवी के साथ संपर्क में रहीं एडिशनल डायरेक्टर हेल्थ और पूर्व सीएमएचओ भोपाल डाॅ. वीणा सिन्हा भी संक्रमित मिलीं। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैस का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। कोरोना कोर ग्रुप में काम कर रहे कुछ और अफसरों के सैंपल लिए गए थे।

भोपाल में कोरोना संक्रमित 12 नए मरीज मिले
मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी भोपाल प्रभाकर तिवारी ने बताया कि प्राप्त हुई रिपोर्ट के अनुसार भोपाल में कोरोना संक्रमित 12 नए मरीज मिले हैं। शुक्रवार को देर रात तक 6 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की सैंपल रिपोर्ट और आज दोपहर तक 6 लोगों के सैंपल की जांच रिपोर्ट आई हैं। भोपाल में अब तक 133 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। जिनमें से तीन संक्रमित व्यक्ति इलाज के बाद स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं। इसमें आज एम्स भोपाल से धाकड़ जो रेलवे में गॉर्ड है स्वस्थ होकर घर पहुच गए है। भोपाल में केवल एक संक्रमित व्यक्ति की मौत हो चुकी है।

जिला कोरोना कंट्रोल रूम में ड्यूटी डॉक्टर भी संक्रमित मिला

10 अप्रैल यानी शुक्रवार को राजधानी में कोरोना संक्रमण के 22 नए केस सामने आए। चिंता वाली बात यह है कि कोरोना संक्रमण स्वास्थ्य विभाग के संचालनालय से अब स्मार्ट सिटी के दफ्तार में बनाए गए जिला कोरोना कंट्रोल रूम में पहुंच गया है। यहां पर डॉ. पल्लव कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इस वजह से बाकी कर्मचारियों को क्वारैंटाइन किया गया है और कंट्रोल रूम को फुल सैनिटाइज किया गया। 12 घंटे बंद रखने के बाद फिर से काम शुरू हो गया। इससे पहले राज्य कंट्रोल रूम में भी कई स्वास्थ्य कर्मी कोरोना पॉजिटव आए थे।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों से परिजन भी संक्रमित
शुक्रवार को जो लोग संक्रमित मिले, उनमें 3 डॉक्टर हैं। हालांकि उनकी किसी अस्पताल में ड्यूटी नहीं थी। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों से अब उनके परिजन भी संक्रमित होने लगे हैं। डॉक्टर्स में पल्लव दुबे, वीरेंद्र कुमार, रोशनी दिलबागी कोरोना संक्रमित हुए। भोपाल में अब तक स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों समेत उनके परिवार के संक्रमित होने की संख्या 75 हो गई। 20 जमाती, 16 पुलिसकर्मी और उनका परिवार है। 12 अन्य लोगों के नाम शामिल हैं।

ये अफसर होम क्वारैंटाइन में
आईएएस अफसरों के साथ बैठकों में अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव संजय शुक्ला, संजय दुबे और स्वाति मीणा नायक भी रहे। प्रतीक हजेला भी घर पर हैं। वहीं, मोहम्मद सुलेमान, संजय शुक्ला, संजय दुबे, अरविंद दुबे, फैज अहमद किदवई, पल्लवी जैन गोविल, प्रतीक हजेला, निशांत बरवड़े, एस धनराजू, सुदाम पी खाड़े, स्वाति मीणा और सलोनी सिडाना ने खुद को होम क्वारैंटाइन किया है।

2 साल का बच्चा भी पॉजिटिव
2 साल का बच्चा प्रदेश में सबसे छोटे उम्र का कोरोना पीड़ित है। सुकून की बात यह है कि अभी उसे किसी तरह की तकलीफ नहीं है। इसलिए उसे घर पर ही रखा गया है। मासूम बच्चा के स्वास्थ्य अधिकारी पिता की 5 अप्रैल को रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इसके बाद उनके 2 साल के बेटे की भी जांच की गई, जिसमें वह संक्रमित पाया गया।

राज्य में अब तक 496 कोरोना संक्रमित
मध्य प्रदेश में 496 कोरोना संक्रमित हो गए हैं। इनमें एक पॉजिटिव यूपी के कौशांबी का रहने वाला है। इसके अलावा, इंदौर 249, भोपाल 133, उज्जैन 15, मुरैना 14, विदिशा में 13, खरगोन-बड़वानी 12-12, होशंगाबाद 10, जबलपुर 10, ग्वालियर 6, खंडवा 5, छिंदवाड़ा 4, देवास 3, शिवपुरी-श्योपुर 2-2, शाजापुर, सागर, धार, बैतूल, रायसेन में एक-एक संक्रमित मिला। अब तक इंदौर में 30, उज्जैन में 5, खरगोन 2, भोपाल, छिंदवाड़ा, देवास में एक-एक की मौत हो गई। इसमें इंदौर 28, जबलपुर 5, भोपाल में 3 और ग्वालियर 2, शिवपुरी में एक मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं।

Advertisements