1 April से बदल जाएंगे इन Bank के नाम और नियम, जानिये किस बैंक का कहां होगा विलय

Advertisements

1 April से बैंकिंग व्‍यवस्‍था में बड़ा बदलाव होने जा रहा है। देश की दस बैंकों का वजूद पूरी तरह से बदल जाएगा। इनके नाम और नियम भी बदल जाएंगे। पूर्व निर्धारित व्‍यवस्‍था के अनुसार देश की दस बैंकों का विलय Merger Of Banks होने जा रहा है। RBI यानी भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve bank of India) ने इस मर्जर को आगामी 1 अप्रैल से लागू किया जाना तय कर दिया है। इसके तहत राज्‍य संचालित दस बैंकों का विलय चार बैंकों के रूप में होगा जो सार्वजनिक क्षेत्र की बड़ी बैंक बनकर उभरेंगी। इस व्‍यवस्‍था के बाद से खाताधारकोंं के Bank Accounts बैंक खातों की संख्‍या और IFSC Code आईएफएससी कोड भी बदल जाएंगे। यहां हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस बैंक का कौन सी बैंक में विलय होगा और इसका आप पर क्‍या असर पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें-  केन्द्र सरकार का अहम फैसला, मेडिकल एजुकेशन में OBC को 27% और EWS को 10% आरक्षण

RBI भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve bank of India) के अनुसार, दस राज्य-संचालित बैंकों के चार बैंकों में विलय की योजना 1 अप्रैल से लागू हो रही है। अलग-अलग रिलीज में बैंकिंग नियामक ने घोषणा की है कि विलय होने वाले बैंकों की शाखाएं उन बैंकों के रूप में काम करेंगी जिनमें इनका मर्जर किया गया है। इस संबंध में गत 4 मार्च को सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र में बड़े बैंक बनाने के लिए अपनी मर्जर योजना के रूप में 10 राज्य के स्वामित्व वाले बैंकों के लिए इस योजना को नोटिफाई किया था।

हालांकि बैंक अधिकारियों की यूनियनों ने इस सप्ताह की शुरुआत में प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कोरोनोवायरस के प्रकोप से उत्पन्न लॉकडाउन के के चलते विलय योजनाओं को स्थगित करने की मांग की थी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने स्पष्ट किया है कि मेगा बैंक विलय योजना तय है और 1 अप्रैल से प्रभावी होगी। हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि कोरोना वायरस के चलते देश की अर्थव्‍यवस्‍था के सामने चुनौतियां हैं।

Advertisements