Jabalpur- धर्मेंद्र सोनकर हत्या मामला: प्रतिद्वंद्विता के चलते चुकानी पड़ी जान

जुआ फड और प्रॉपर्टी विवाद रही धर्मेंद्र की हत्या की मुख्य वजह

जबलपुर। हनुमान ताल थाना अंतर्गत कल दोपहर को पूर्व पार्षद धर्मेंद्र सोनकर की हत्या की मुख्य वजह जुआ फड और प्रॉपर्टी की प्रतिद्वंद्विता थी, जिसके चलते आरोपी मोनू सोनकर ने इस घटना को अंजाम दिया। करीबियों का कहना है कि दोनों के बीच दुश्मनी काफी लंबे समय से चली आ रही थी और पूर्व में भी विवाद की स्थिति निर्मित होती रही, जिसकी परिणति गुरूवार को धर्मेंद्र को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।
घटना के बाद पुलिस ने आरोपी मोनू सोनकर और उसके साथी अंकित भूरा को हिरासत मे ले लिया है और इनसे पूछताछ की जा रही है।

1 दिन पूर्व हुआ था विवाद
क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि 1 दिन पूर्व भी नशे की हालत में मोनू सोनकर, धर्मेंद्र और उसके परिजनों को गालियां बक रहा था। जिसकी जानकारी लगने पर धर्मेंद्र विवाद करने उसके पास जा रहा था ,लेकिन परिजनों के समझाने के बाद वह नहीं गया और दूसरे दिन मोनू ने वारदात को अंजाम दे दिया।
पैर छुए और चला दी गोलियां

प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि बुधवार को विवाद होने के बाद कल मोनू सोनकर धर्मेंद्र के घर पहुंचा और उसने सभी के पैर छुए ,इसके साथ ही घर के बाहर बैठे धर्मेंद्र के भी मोनू ने पैर छुए और उठते ही उस पर दनादन फायर करना शुरू कर दिया।
स्वयं परिजन रहे त्रस्त
मोनू की आतंकी हरकतों से खुद उसके परिजन भी परेशान रहे। विगत तीन माह पूर्व भी अपने चाचा के लड़के के विवाह समारोह में मोनू ने जमकर आतंक मचाया था और रिश्तेदारों की पिटाई की थी जिसके चलते वहां भगदड़ की स्थिति निर्मित हो गई थी ।शादी में शामिल होने आए हनुमानताल,बेलबाग सहित घमापुर के पुलिसकर्मी भी मोनू के आतंक का शिकार बने थे।

इनका कहना है
आरोपी के घर की तलाशी लेने पर एक रिवाल्वर और पांच स्थल सहित 40 कारतूस बरामद हुए हैं इसके साथ ही 6 लाख नगदी भी बरामद की गई है मामले में आरोपियों से पूछताछ जारी है।

अमित सिंह, पुलिस अधीक्षक जबलपुर के घर की तलाशी लेने पर एक रिवाल्वर और पांच स्थल सहित 40 कारतूस बरामद हुए हैं इसके साथ ही 6 लाख नगदी भी बरामद की गई है मामले में आरोपियों से पूछताछ जारी है।
अमित सिंह, पुलिस अधीक्षक जबलपुर