Covid-19 : सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं करने पर कांग्रेस नेता के खिलाफ FIR दर्ज

इंदौर में ज़रूरतमंदों को राशन बांटने वाले कांग्रेस (CONGRESS) प्रदेश महासचिव शेख अलीम पर आजाद नगर थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है. उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) का पालन ना कर, अपने घर के बाहर लोगों की लाइन लगवाकर राशन बांटा था. इससे कोरोना (Corona virus) के संक्रमण का खतरा बढ़ गया था.जन स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने के इस मामले में शेख अलीम के खिलाफ धारा 188 और 269 के तहत FIR दर्ज की गयी है.

इंदौर में कोरोना संक्रमण के बचाव को लेकर कर्फ्यू लगा हुआ है. कर्फ्यू में ढील के दौरान इंदौर के मुस्लिम बाहुल्य आज़ाद नगर इलाके में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव शेख अलीम ने गुरुवार को राहत सामग्री बांटी. उनके घर के बाहर बड़ी संख्या में महिलाओं की भीड़ उमड़ पड़ी. इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रखा गया, जो खतरनाक साबित हो सकता है. ये महिलाएं एक दूसरे से सटी हुईं लाइन में खड़ी हुईं दिखाई दीं. जबकि इनके बीच 3 मीटर से ज्यादा का फासला होना चाहिए था. इन्होंने ऐसा ना करके एक तरह से कोरोना को फैलने का आमंत्रण दिया.कांग्रेस नेता शेख अलीम की पत्नी फौजिया शेख अलीम इंदौर नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष हैं. उन्होंने अपनी वॉर्ड की महिलाओं को चावल, दाल,आटा और तेल बांटने की व्यवस्था की थी. वो अपने पति के साथ घर से ही ये सामान बंटवा रही थीं.

शेख अली पर FIR
एसपी यूसुफ कुरैशी ने बताया कि कांग्रेस नेता शेख अलीम अपने घर पर लोगों को कतारबद्ध कर राशन बांट रहे थे. ऐसा करना कोरोना वायरस को फैलाने जैसा कृत्य है. ये बहुत ही गंभीर मामला था. पुलिस इस तरह की हरकतों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी. जन स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने के इस मामले में शेख अलीम के खिलाफ धारा 188 और 269 के तहत एहआईआर दर्ज की है. साथ ही अन्य लोगों को भी ताकीद किया गया है कि भीड़ या चिपक कर खड़े ना हों. कतार लगाकर कोई सामग्री वितरित नहीं की जाए इससे हम सब लोगों के प्रयासों पर पानी फिर सकता है. सामान खरीदते समय निर्धारित दूरी बना कर रखी जाए.

इंदौर में तेजी से बढ़ रहे मामले
देशभर में तेजी से फैल रहे कोरोना वायरस का असर अब मध्यप्रदेश पर भी काफी अधिक दिखाई देने लगा है. बीते 24 घंटों में यहां संक्रमितों के मामले 10 से अचानक 21 जा पहुंचे हैं. मरने वालों की संख्या भी 2 हो गई है. सबसे ज्यादा इंदौर की हालत खराब हुई है. यहां बीते दो दिन में ही 10 मामले सामने आए हैं जिनमें दो लोगों की मौत भी इसी शहर में हुई है. शहर के इतने हालात बिगड़ने के बावजूद भी लोग इस भयानक संक्रमण को लेकर जरा भी सजग नजर नहीं आ रहे हैं. बाजारों और दूध, दवा की दुकानों पर अब भी एक साथ सैकड़ों लोगों की भीड़ आमतौर पर खरीदारी के समय देखी जा रही है. लोग WHO द्वारा दूरी बनाए रखने के नियमों का पालन करने में कोताही बरत रहे हैं.