MP में 5 फीसदी DA पर भड़के कर्मचारी, 9% की मांग, कहा- हम भी होते विधायक तो मान जाती सरकार

Advertisements

भोपाल। भले ही मध्यप्रदेश सरकार ने 5 फीसदी मंहगाई भत्ता देने की घोषणा की हो मगर इससे कर्मचारी खुश नहीं हैं। कर्मचारियों के संगठनो का कहना है कि सरकार ने दो हजार करोड़ रुपए बचाए हैंं 9 प्रतिशत महंगाई भत्ता ना देकर, जबकि केंद्रीय कर्मचारियों को 21% तो राज्य कर्मचारी को सिर्फ 12% DAमिल रहा है इससे 1395 से ₹11000 ₹ हर महीने नुकसान हो रहा है।

मध्यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ प्रदेश सचिव उमाशंकर तिवारी ने कहा कि मजबूर कर्मचारियों की  सुनवाई नहीं है । मांग की गई है कि 9% महंगाई भत्ता अविलंब दे सरकार, तंज कस कर्मचारियों ने कहा कि “हम भी होते विधायक तो मान जाती सरकार…”

इसे भी पढ़ें-  JABALPUR: दो भाइयों ने मारा चाकू, एक घंटे तक तड़पता रहा पर किसी ने मदद नहीं की, हो गई मौत

मध्य प्रदेश शासन के कर्मचारियों को 9% महंगाई भत्ता कम मिल रहा है इस कारण महंगाई का सामना कर परिवार चलाना कर्मचारियों के लिए बहुत मुश्किल हो गया है। राज्य सरकार द्वारा जुलाई 2019 से 5% महंगाई भत्ता 8 महीने बीतने के बाद भी कर्मचारी को नहीं दिया गया।

केंद्र द्वारा जनवरी 2020 से 4% महंगाई भत्ता कर्मचारी एवं सेवानिवृत्त कर्मचारियों को दे दिया गया। एक शहर में रहने वाले केंद्रीय और राज्य कर्मचारी के महंगाई भत्ते में 9% का बहुत बड़ा अंतर हो गया है। महंगाई भत्ता कम मिलने से परिवार चलाना कठिन होता जा रहा है।

महंगाई भत्ता कर्मचारी का अधिकार है और उस अधिकार को भी कर्मचारी ले नहीं पा रहा क्योंकि कर्मचारी नियमों से बंधा होता है वह कोई पार्टी का विधायक नहीं होता कि सरकार उसके मनमाफिक उसकी इच्छा पूर्ति कर दे।

इसे भी पढ़ें-  सागर मेडिकल कॉलेज के लापता प्रो सर्वेश जैन जबलपुर पहुंचे

अनुशासन में रहकर मांग करना ही हमारा भाग्य है। प्रदेश सरकार राज्य शासन के कार्यरत कर्मचारियों एवं सेवानिवृत्त कर्मचारियों को जुलाई 2019 से 5% और जनवरी 2020 से 4% कुल 9% महंगाई भत्ता/ महंगाई राहत देने के आदेश जारी करें कर्मचारी भी इंसान हैं और जीने के लिए पैसे की जरूरत है।

हर महीने कर्मचारी को हो रहे नुकसान की गणना

प्रथम श्रेणी अधिकारी को ₹ 6059 से 11080

द्वितीय श्रेणी अधिकारी को ₹4293 से 5049

तृतीय श्रेणी कर्मचारी को ₹1755 से 3258

चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को ₹1395 से 1620

Advertisements