Katni: बदले अधिकारियों के सुर, सत्ता परिवर्तन के बाद फिर प्रशासनिक सर्जरी ?

Advertisements

कटनी। मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन की सुगबुगाहट के बीच एक बार फिर प्रशासनिक सर्जरी की तैयारी भी हो चुकी है। ताजा राजनैतिक घटनाक्रम के बाद यदि प्रदेश में सत्ता भाजपा के हाथ आती है तो कई अफसरों पर तबादले की गाज गिरना भी तय माना जा रहा है।

सामने आ रही जानकारी के अनुसार इनमें ऐसे अफसरों के नाम शामिल हैं जो प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के बाद अपनी मनचाही जगह पोस्टिंग कराई है। अब भाजपाई टारगेट में ऐसे अफसरों के नाम शामिल हैं जो कांग्रेस सरकार के चहेते अफसर हैं। इनमें पुलिस, खनिज, लोकनिर्माण, आबकारी, कृषि, नगरीय प्रशासन, सामान्य प्रशासन, ग्रामीण विकास सहित दर्जन भर विभागों के विभागाध्यक्षों के नाम शामिल बताए जाते हैं।

इसी संभावना के बाद अब अधिकारी कर्मचारियों के सुर भी बदलने लगें हैं। सूत्रों के मुताबिक इसके अलावा भी बड़ा प्रशासनिक फेरबदल होना बताया जा रहा है। हालांकि प्रशासनिक जमावट नए मुख्य सचिव के चयन के बाद होगी। वहीं मुख्यमंत्री की कमान संभालने के बाद नए मुख्यमंत्री को मुख्य सचिव का चयन करना है। गौरतलब है कि प्रदेश में राजनैतिक उठा पटक को लेकर प्रशासनिक अधिकारी व कर्मचारी भी असमंजस में है। उन्हे लगता है कि 15 साल बाद प्रदेश में कांग्रेस की सरकार आई तो उन्होने अपनी मनचाही जगह पोस्टिंग करवा ली लेकिन प्रदेश के ताजा हालात देखकर ऐसे अधिकारी व कर्मचारी सबसे ज्यादा भयभीत है क्योंकि प्रदेश में यदि एक बार फिर भाजपा सत्ता में वापसी करती है तो निश्चित ही नई सरकार फिर प्रदेश भर में प्रशासनिक सर्जरी करेगी और अपने हिसाब से ही अधिकारियों व कर्मचारियों की नए सिरे से फिल्डिंग जमाएगी। जिले में भी ऐसे कई प्रशासनिक व पुलिस विभाग के अधिकारी व कर्मचारी हैं। जिन्होने प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद अपने हिसाब से पोस्टिंग कराकर कटनी पहुंचे हैं।

इसे भी पढ़ें-  आर्यन खान को गिरफ्तार करने वाले समीर वानखेड़े पर नवाब मलिक का एक और बड़ा आरोप, बोले- 2006 में किया था निकाह

सूत्रों की माने तो नेताओं ने जिले के ऐसे अधिकारी व कर्मचारियों की सूची भी तैयार कर ली गई। अब बस इंतजार प्रदेश में एक बार फिर सत्ता परिवर्तित होने का हो रहा है। उल्लेखनीय है कि जिले के प्रशासन के अलग-अलग विभागों व पुलिस विभाग में कई अधिकारी व कर्मचारी प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अपना तबादला कराकर जिले में आए हैं।

 समझा जाता है कि प्रदेश में चल रही राजनैतिक उठा पटक के बाद यदि एक बार फिर भाजपा की सरकार बनती है तो प्रशासनिक व पुलिस सर्जरी जरूर होगी और नई सरकार का ध्यान पूरी तरह से उन्ही अधिकारी व कर्मचारियों पर होगा, जो सत्ता परिवर्तन के बाद जिले में पदस्थ हुए हैं। 

इसे भी पढ़ें-  दुष्कर्म का आरोपित बड़नगर विधायक का बेटा करण मोरवाल मक्सी से गिरफ्तार

इनका हटना भी तय!
सत्ता परिवर्तन के बाद कांग्रेस नेताओं के रिश्तेदार अधिकारियों का भी हटना तय माना जा रहा है। इन अधिकारियों की पदस्थापना प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के बाद की गई थी। इसके अलावा यह भी चर्चा है कि इसके चलते तकरीबन दो दर्जन कलेक्टर्स भी यहां से वहां हो सकते हैं। जिसमें कटनी कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक का नाम भी शामिल है।

जिलास्तर पर भी होगा फेरबदल
यहां यह भी उल्लेखनीय है कि जिलास्तर पर भी प्रशासन व पुलिस विभाग के कई अधिकारी व कर्मचारियों ने प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने के बाद जुगाड़ लगाकर जिले में ही अपनी मनचाही जगह पोस्टिंग करा ली थी। प्रदेश के ताजा राजनैतिक घटनाक्रम को देखते हुए ऐसे अधिकारी व कर्मचारी भी असमजंस में आ गए हैं। उन्हे भी यह आभास है कि यदि प्रदेश में एक बार फिर यदि भाजपा सत्ता में आती है तो उन्हे फिर हटाया जाएगा। 

Advertisements