CORONA : इटली से हनीमून मनाकर लौटी महिला को भर्ती कराने के लिए बुलानी पड़ी पुलिस

Advertisements

इटली से हनीमून मनाकर लौटी आगरा की महिला को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ गया। महिला का पति बंगलूरू में कोरोना संक्रमित पाया गया था। इसका पता चलने पर वो बंगलूरू से आगरा आ गई। उसके परिजन स्वास्थ्य विभाग की टीम को गुमराह कर रहे थे।
अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) की लैब में भेजे गए महिला के सैंपल की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। दूसरा सैंपल लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय (केजीएमयू) को भेजा गया है।

अगर केजीएमयू की जांच में उसका सैंपल कोरोना पॉजिटिव पाया जाता है, तब ही महिला को कोरोना संक्रमित घोषित किया जाएगा अन्यथा नहीं। जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने बताया कि महिला की जांच रिपोर्ट आने का इंतजार है।
एक माह पहले हुई थी शादी

इसे भी पढ़ें-  नवाब मलिक को समीर वानखेड़े का जवाब, खुद को बताया मुस्लिम मां और हिंदू पिता का बेटा

आगरा कैंट क्षेत्र में रहने वाले एक रेलवे कर्मचारी की बेटी का विवाह एक माह पहले कर्नाटक में नौकरी करने वाले युवक के साथ हुआ था। शादी के बाद दोनों हनीमून के लिए इटली गए थे। इटली से लौटने के बाद पति में कोरोना वायरस पाया गया था।

इसके बाद उक्त महिला को भी आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था, लेकिन सैकड़ों लोगों की सुरक्षा को खतरे में डालकर महिला बंगलूरू से अपने परिवार के पास आगरा आ गई। इसकी जानकारी होने पर स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग की रेपिड रिस्पॉन्स टीम ने पहले उसे रेलवे अस्पताल में भर्ती कराया था, जहां से उसे जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड भेजा गया।

इसे भी पढ़ें-  Theft Of Bicycle Belong To Preseident Of Vidhan Sabha: साइकिल यात्रा से पहले गायब हुई विधानसभा अध्यक्ष की साइकिल, ढूंढने में जुटी GRP

बृहस्पतिवार को आगरा से आए महिला सहित 12 लोगों के सैंपल अलीगढ़ भेजे गए थे। इनमें से 11 नेगेटिव पाए गए। महिला के सैंपल में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की बात सामने आई है। एएमयू के प्रिंसिपल प्रो. शाहिद अली सिद्दीकी ने बताया कि अधिक पुष्टि के लिए नमूने को लखनऊ के किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज भेज दिया गया है।
स्वास्थ्य विभाग को बुलानी पड़ी पुलिस

महिला को लेने के लिए रैपिड रिस्पांस टीम को दो घंटे तक इंतजार करना पड़ा। परिजनों ने महिला की जानकारी छिपाते हुए उसके दिल्ली जाने की बात बताई। इससे जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। पुलिस के आने पर महिला को आइसोलेशन वार्ड ले जाने दिया।

इसे भी पढ़ें-  Aryan Khan Drugs Case: समीर वानखेड़े की मुसीबत बढ़ी, रिश्वत मामले में विजिलेंस जांच शुरू

मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. मुकेश वत्स ने बताया कि परिजन मरीज की सही जानकारी नहीं दे रहे थे, रेलवे अधिकारी और सभी ने काउंसलिंग कर समझाया। तब कहीं परिजनों ने संभावित मरीज को लेकर आने दिया।

Advertisements