हादसों का शुक्रवार: एक दिन में 3 ट्रेन हादसे, कहीं बेपटरी हुई ट्रेन, कहीं इंजन से अलग हुई कोच

Advertisements

उत्तर प्रदेश के बाद ओडिशा में भी एक ट्रेन हादसा हुआ है। ओडिशा के जगतसिंहपुर जिले में कोयले से लदी एक मालगाड़ी पटरी से उतर गई। हादसे में मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतर गये। इस घटना में फिलहाल किसी हताहत होने की खबर नहीं है। अधिकारियों ने बताया कि घटना सुबह करीब पांच बजकर 55 मिनट पर हुई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक ये हादसा ग्वालिपुर स्टेशन के नजदीक हुआ है। यहां पर पारादीप-कटक मालगाड़ी के 14 डिब्बे पटरी से उतर गये। घटना के बाद इस रूट पर रेलों का आवागमन ठप हो गया है। घटनास्थल के लिए रेलवे की रेस्क्यू ट्रेन को रवाना कर दिया गया है।सबसे पहले गार्ड ने नजदीकी स्टेशन को इसकी सूचना दी जिसके बाद नियंत्रण कक्ष को तत्काल सूचित किया गया और फिर राहत ट्रेनों एवं क्रेन को तैनात किया गया।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना कहर को रोकने के लिए तमिलनाडु में 10 से 24 मई तक कंप्लीट लॉकडाउन का ऐलान

महा प्रबंधक उमेश सिंह ने खुर्दा रोड़ डिविजन को जांच समिति गठित करने और विस्तृत रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए हैं।  मिश्रा ने बताया, ‘‘जांच रिपोर्ट में घटना पर स्पष्ट जवाबदेही तय करने समेत इसके सभी पहलुओं, परिस्थितियों एवं कारणों का उल्लेख किया जाना डीआरएम/केएचआरडीए रोड ब्रज मोहन अग्रवाल तुरंत एक जांच समिति नामित कर रहे हैं।’’ दुर्घटना वाले स्थान की जांच के बाद यह फैसला किया गया कि पटरी से उतरे 14 डिब्बों में से 12 डिब्बों को क्रेन की मदद से पटरी से हटाया जायेगा जबकि दो डिब्बों को आगे चलाया जायेगा।

उत्तर प्रदेश में ही एक और ट्रेन दुर्घटना हुई है। सहारनपुर में शुक्रवार को जम्मू-पटना अर्चना एक्सप्रेस का इंजन ट्रेन से अलग हो गया। इस वजह से इस रूट पर ट्रेनों की आवाजाही कुछ देर तक रुकी रही। बाद में इंजन को फिर से ट्रेन से जोड़ा गया इसके बाद ही ट्रेन आगे रवाना हो सकी। बता दें कि इससे पहले आज (24 नवंबर) तड़के उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले के मानिकपुर जंक्शन वास्को डि गामा-पटना एक्सप्रेस डिरेल हो गई। इस दुर्घटना में ट्रेन के 13 डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में तीन लोगों की मौत हो गयी, जिनमें एक छह साल का मासूम और उसका पिता शामिल हैं। हादसे में नौ अन्य यात्री घायल हो गये। रिपोर्ट्स के मुताबिक पटना जा रही 12741 वास्को डि गामा एक्सप्रेस सुबह चार बजकर अठारह मिनट पर जैसे ही मानिकपुर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर -2 से होकर गुजरी, इसके 13 डिब्बे पटरी से उतर गये।

Advertisements