डाक विभाग में शुरू नहीं हो पाया आधार कार्ड बनाने का काम

Advertisements

भोपाल। डाक विभाग में आधार कार्ड निर्माण का काम अब तक शुरू नहीं हो पाया। विभाग को उम्मीद थी कि अक्टूबर में मशीनों के आते ही प्रदेश के एक हजार डाकघरों में आधार का काम शुरू हो जाएगा। मशीनों के लिए विभाग द्वारा लगाई गई पहली बोली विफल हो गई। इस वजह से अब नए सिरे से फिर मशीनों के ऑर्डर के लिए कवायद शुरू की जाएगी।

डाक विभाग को अक्टूबर में आधार पंजीयन का काम शुरू करना था, लेकिन नवंबर के तीन सप्ताह बीत गए अब तक मशीनें ही नहीं आ पाईं। विभागीय सूत्रों का कहना है इस संबंध में विभाग के कर्मचारियों की ट्रेनिंग भी करा ली गई है, लेकिन अब मशीनों का ही इंतजार किया जा रहा है। इस सप्ताह विभाग द्वारा नए सिरे से प्रयास किए जा रहे हैं।

एक हजार डाकघरों में मिलेगी सुविधा

प्रदेश के गांव-गांव में फैले डाक विभाग के नेटवर्क का उपयोग सरकार ने आधार पंजीयन में करने का निर्णय लिया है। पहले चरण में राज्य के एक हजार डाकघरों में यह सुविधा शुरू की जाएगी। व्यवस्था यह रहेगी कि पांच सौ डाकघरों में आधार कार्ड अपडेट होंगे और बाकी के पांच सौ डाकघरों में नए सिरे से आधार बनाए जाएंगे। ऐसे डाकघरों में आईरिश स्कैन मशीनों को भी स्थापित करना पड़ेगा। सरकार अभी आधार निर्माण का काम निजी एजेंसियों के जरिए आउटसोर्स करती है। यह काम एजेंसियों से बंद कर डाक विभाग को सौंपने का निर्णय हो चुका है।

हो रहा मशीनों का इंतजार

डाक विभाग के निदेशक रामचंद्र जायेभाये का इस संबंध में कहना है कि मशीनों नहीं आ पाने के चलते आधार के काम में कुछ विलंब हुआ है। विभाग ने मशीन हासिल करने के लिए नए सिरे से प्रयास प्रारंभ कर दिए हैं। उम्मीद है कि दिसंबर अंत तक सभी डाकघरों तक आधार निर्माण के लिए जरूरी सभी मशीनें उपलब्ध हो जाएंगी। मशीनों की स्थापना होते ही यह काम शुरू हो जाएगा। विभाग ने इस संबंध में कर्मचारियों का प्रशिक्षण और अन्य तैयारियां पूरी कर ली हैं।

Advertisements