सिंधी समाज नहीं करेगा परिचय सम्मेलन, बचत को बच्चों की पढ़ाई पर करेंगे खर्च

Advertisements

भोपाल। Bhopal News सिंधु समाज ने युवक-युवती परिचय नहीं करने का निर्णय लिया है। इससे जो बचत होगी, उसको अन्य सेवा के कार्य बच्चों को छात्रवृति व विधवाओं को पेंशन आदि में खर्च करेंगे। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार इस बार राजधानी में मप्र सिंधु भवन ट्रस्ट की ओर से 24वां युवक-युवती परिचय सम्मेलन किया जाना प्रस्तावित था।

इन सम्मेलनों में अक्सर यह पाया गया कि सम्मेलन में खर्च पानी की तरह बहता है और उसके परिणाम उसके अनुरूप नहीं आते हैं। शिवाजी नगर स्थित मप्र सिंधु भवन ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष व मैरिज ब्यूरो के चेयरमेन श्याम कुमार चंदनानी ने बताया कि गत 23 वर्षों से सिंधु भवन ट्रस्ट युवक-युवती परिचय सम्मेलन करता आ रहा है, ताकि जीवनसाथी खोजने की राहें आसान हो सकें। इन सम्मेलनों में युवक-युवतियां कम, उनके अभिभावक ज्यादा संख्या में ज्यादा आते हैं, जो सिवाय भीड़ के हिस्सा और फिजूलखर्ची बढ़ाते हैं।

यह बायोडाटा चार वर्गों में विभाजित रहेगा। पहला 12वीं शिक्षाधारी, दूसरा स्नातक-स्नातकोत्तर, तीसरा प्रोफेशनल, इंजीनियर, एमबीए इत्यादि और चौथे वर्ग में दिव्यांग, विधवा व तलाकशुदा आदि भागों में विभाजित रहेगा। 27 फरवरी तक पंजीयन किए जाएंगे। विमोचन के बाद पत्रिका चाहने वाले युवक-युवतियों और उनके अभिभावकों उपलब्ध कराएंगे।

राजधानी में पंजीयन के लिए 8 केंद्र संत हिरदाराम नगर में पंडित जयकुमार, भेल सिंधु सोशल सर्किल में डीडी मेघानी, कोलार चूना भट्टी में रीमा माखिजा व पंडित राजेश शर्मा, सिंधी कॉलोनी संत कंवरराम नगर में मोहन देवरख्यानी, कोटरा नेहरू नगर में रमेश कामरानी, ईदगाह हिल्स प्रभु नगर में सुभाष खत्री, गांधी नगर, करोंद बायपास में अशोक भागचंदानी बाबीभाई और रोहित नगर में रवि महाराज को प्रभारी बनाया गया है। इसके अलावा इंदौर में नरेश फुंदवानी, ग्वालियर में लखनलाल, कटनी में विशनदास चेलानी, मुंबई उल्लास नगर केंद्र का सुरेश प्रताप मुल्तानी और दिल्ली में भी केंद्र खोला गया है।

Advertisements