Katni : डरबी होटल खाली करने कल सुबह 8 बजे तक मोहलत

Advertisements

कटनी। उपनगरीय क्षेत्र माधवनगर में समदड़िया कालोनी के सामने स्थित डरबी होटल को खाली करने अब कल सुबह 8 बजे तक की मोहलत नगर निगम ने होटल संचालक को दिया है। नगर निगम के भवन अनुज्ञा अधिकारी राकेश शर्मा ने बताया कि माधवनगर स्थित डरबी होटल को 24 घंटे के अंदर खाली करने का नोटिस होटल में चस्पा किया गया था। जिसके बाद होटल संचालक ने सामान खाली करने कुछ और मोहलत मांगी थी।

जिसे स्वीकार करते हुए अब होटल को खाली करने कल 28 दिसंबर की सुबह 8 बजे तक का समय दिया गया है। भवन अनुज्ञा अधिकारी राकेश शर्मा ने यह भी बताया कि डरबी होटल संचालक को तीन अलग-अलग नोटिस जारी किए गए हैं। जिसमें से पहला नोटिस भवन अनुज्ञा निरस्त करने संबंधी जारी किया गया। इसके बाद दूसरा नोटिस सामान खाली करने का और तीसरा नोटिस सामान खाली होने के बाद होटल तोड़ने का है। श्री शर्मा का कहना है कि पहले एक ही नोटिस में तीनों चीजों का उल्लेख रहता था लेकिन अब नए नियमों के तहत अलग-अलग नोटिस जारी किए गए हैं। श्री शर्मा ने यह भी बताया कि कल सुबह 8 बजे होटल खाली होने के बाद उसे तोड़ने की कार्रवाई शुरू की जाएगी। गौरतलब है कि 24 दिसंबर को नगर निगम के भवन अनुज्ञा अधिकारी राकेश शर्मा द्वारा माधवनगर निवासी जेठानंद वलवानी के नाम डरबी होटल में नोटिस चस्पा कराया गया था।

जिसमें यह कहा गया था कि पुर्नवास भूमि सीट नंबर दो प्लाट नंबर 290 का अवैध रूप से व्यवसायिक उपयोग किया जा रहा है। इस प्रयोजन से यहां पर होटल एवं रेस्टारेंट का संचालन हो रहा है। नगर निगम द्वारा जारी आवासी भवन अनुज्ञा कार्यालयीन पत्र क्रमांक 118/भवन अनुज्ञा/2019/16 दिसंबर 2019 को प्रतिसंहरण किया जा चुका है। भवन अनुज्ञा अधिकारी ने भवन को 24 घंटे में खाली करने का अल्टीमेटम दिया है। पुनर्वास की भूमि का व्यवसायिक उपयोग करने और कार्रवाई संबंधी नगर निगम द्वारा जारी नोटिस के बाद यहां दूसरे निर्माण पर भी सवाल उठ रहे हैं। नागरिकों ने बताया कि माधवनगर में पुनर्वास की भूमि पर मिल और दूसरे व्यवसायिक प्रतिष्ठान चल रहे हैं।

सिंधी समाज के लोगों ने किया प्रस्तावित कार्रवाई का विरोध

डरबी होटल को खाली कराने संबंधी नोटिस होटल के मुख्य प्रवेश द्वार पर चस्पा होने के बाद पूरे माधवनगर में हड़कंप मच गया और भारी संख्या में सिंधी समाज के लोग डरबी होटल पहुंच गए। उन्होने नगर निगम की इस कार्रवाई का विरोध किया। होटल के ही हाल में समाज के गणमान्य नागरिकों व जनप्रतिनिधियों ने बैठक की और कहा कि किसी भी हालत में होटल को टूटने नहीं देंगे। हालांकि नगर निगम के द्धारा 24 घंटे की और मोहलत देने के बाद लोगों का आक्रोश अब जरूर कम हुआ है लेकिन यदि कल शनिवार को होटल पर किसी भी प्रकार की कार्रवाई हुई तो नगर निगम, पुलिस व प्रशासन को यहां कड़े विरोध का सामना करना पड़ सकता है।

Advertisements