Katni : अतिक्रमण की कार्रवाई में नजर आए ननि के दो चेहरे

कटनी। नजूल की भूमि में अतिक्रमण हटाना और अवैंध निर्माण में प्रशासन के दो प्रमुख विभागों के अलग-अलग चेहरे गुरूवार को देखने को मिले। माधवनगर क्षेत्र में बंगला लाइन से तो हुंदराज कोटानी के द्वारा नजूल पुर्नवाद की भूमि में किए गए अतिक्रमण को तहसीलदार ने नगर निगम के साथ हटाया, लेकिन गुरूनानक वार्ड में मोहनलाल हीरानी/सेवाराम रूपचंदानी/ रेनू भाटिया के अवैध निर्माण केा तोड़ने में नगर निगम की फौज मूकदर्शक बनीं रही। जबकि दोनों जगहों पर गुरूवार को ही अतिक्रमण हटाने का दम भरा गया था। जिसके बाद नगर निगम को लोगों ने कटघरेक में खड़ा किया। ग्राम टिकुरी के माधवनगर बंगला लाइन में दोपहर करीब एक बजे नगर निगम की टीम पहुंची। नजूल पुर्नवास भूमि में बना गए बाउंड्रीवाल को तोड़ा। इस दौरान विरोध का भी सामना करना पड़ा। जिस पर लोगों का कहना रहा कि जब प्रदेश में भाजपा की सरकार रही, तब अधिकारी लोग ही चढ़ोत्तरी लेकर कब्जा कराए। वर्तमान समय में सरकार में यह मामला विचाराधीन है, जिस पर रोक लगाई जाए।
नहीं हटा अवैध निर्माण
गुरूवार को भवन निर्माण अनुज्ञा शाखा के प्रभारी कार्यपालन यंत्री ने गुरूनानक वार्ड में भी नियम विरूद्ध निर्माण कार्य को तोड़ने के लिए पुलिस बल की मांग की थी। थानें में कोतवाली पुलिस बैठी रही, लेकिन नगर निगम का अमला अवैध निर्माण से एक ईंट भी नहीं हटा सका। जिसके पीछे राजनीतिक दबाव बताया जा रहा है। नगर निगम के लोगों का कहना रहा है कि अवैध निर्माण हटाने की कार्यवाही पर राजनीतिक पार्टी के पदाधिकारी एक सुर में आवाज उठाए, जिसके बाद इसे रोक दिया गया। सोशल मीडिया में घिरे उपयंत्री
सोशल मीडिया में उपयंत्री जायसवाल सवालों के घेरे में आ गए। जिस गुरूनानक वार्ड में अवैध निर्माण नहीं हटाया गया। उसके संबंध में नगर निगम के अधिवक्ता 16 अगस्त 2018 को यह लेख कर चुके हैं कि तीनों प्रकरण को न्यायालय ने खारिज कर दिया है। जिसके बाद अवैध निर्माण को हटाने की कार्यवाही पूर्ण किया जाना विधि सम्मत होगा।

शुरू हुई राजनीति
इसमें राजनीति भी शुरू हो गई है भाजयुमो जिलाध्यक्ष मृदुल द्विवेदी ने कहा कि माधवनगर पुनर्वास भूमि विस्थापितों के लिए आरक्षित है। वहां पर इस तरह की कार्यवाही कर विस्थापितों में दहशत का माहौल पैदा किया जा रहा है। कांग्रेस सरकार ने इस पर सार्थक पहल करने का वादा किया था। वादा तो पूरा हुआ नहीं, ऊपर से उन्हें हटाया जाने लगा। युमो ने कहा कि यदि दोबारा इस तरह की घटना कारित हुई तो वे सड़कों में प्रदर्शन करेंगे। माधवनगर युवा संघर्ष समिति के अध्यक्ष राजा जगवानी ने कहा कि यह कार्य निंदनीय है। पुलिस प्रशासन और राजस्व अधिकारी तोड़फोड़ कर दहशत फैला रहे हैं।