झाबुआ में कांग्रेस की अब तक की सबसे बड़ी जीत, कांतिलाल भूरिया ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

Advertisements

झाबुआ। बहुप्रतीक्षित झाबुआ विधानसभा उपचुनाव के नतीजे गुरुवार को घोषित हो गए। मुख्य मुकाबला कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद कांतिलाल भूरिया और भाजपा के युवा भानू भूरिया के बीच था। चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी ने झाबुआ विधानसभा सीट पर अब तक की सबसे बड़ी 27 हजार 804 मतों की जीत दर्ज की।

3088 मतदाताओं ने नोटा बटन दबाया

भूरिया को कु ल 96155 और भानू को 68351 वोट मिले, जबकि 3088 मतदाताओं ने नोटा बटन दबाया। उपचुनाव में दोनों ही प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर थी। भाजपा नेताओं ने चुनाव प्रचार के दौरान यहां तक कह दिया था कि यदि कांग्रेस जीती तो इसे सरकार के अब तक के कार्यकाल पर जनता की मुहर के रूप में देखा जाएगा।

सीएम ने जनता से कनेक्ट होने के प्रयास किया

भाजपा ने प्रचार के दौरान कर्जमाफी, बिजली बिल, कांग्रेस प्रत्याशी की उम्र जैसे मुद्दों को जनता के बीच रखा था। कांग्रेस की तरफ से मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने भाषणों में कहा था कि झाबुआ का विकास भी वे छिंदवाड़ा मॉडल की तर्ज पर करेंगे। सीएम ने जनता से कनेक्ट होने के प्रयास किया।

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने की थी ऐसी अपील

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह ने बोरी में सभा के दौरान मंच से एक भावनात्मक अपील कर कहा था कि यह कांतिलाल भूरिया का आखिरी चुनाव है। अत: उन्हें जीता दें। भाजपा की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने प्रचार के अंतिम सप्ताह में विधानसभा क्षेत्र में तूफानी दौरा कि या था।

सत्य की जीत है

कांग्रेस के विजयी प्रत्‍याशी कांतिलाल भूरिया ने कहा कि जनता ने विकास पर वोट कि या है। यह सत्य की जीत है। कमलनाथ सरकार की जीत है।

स्वीकार है जनादेश

विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी भानू भूरिया ने कहा कि जनादेश स्वीकार है। यह पैसे की जीत है। प्रशासन ने दबाव में काम कि या।

झाबुआ सीट उपचुनाव के आंकड़े

विधानसभा क्षेत्र में कु ल मतदाता 277599 हैं। इसमें पुरुष 139330 और महिला 138266 हैं, जबकि अन्य 3 हैं। वहीं चुनाव में पुरुष 86351, महिला 85791 और अन्य 2 सहित कु ल 172144 मतदाताओं ने वोट डाला। मतदान का प्रतिशत 62.01 रहा।

Advertisements