Murder Katni : मां को कहे अपशब्‍द तो भांजे ने मामा को उतार दिया मौत के घाट

कटनी। माधवनगर थाना क्षेत्र की रंगनाथ नगर पुलिस चौकी अंतर्गत शास्त्री चौक में मकान के अंदर से बरामद की गई एक युवक की रक्तरंजित लाश की गुत्थी चंद घंटों में सुलझाते हुए युवक की हत्या के आरोप में मृतक के रिश्ते के भांजे को गिरफ्तार कर लिया है। माधवनगर थाना प्रभारी संजय दुबे के मुताबिक शास्त्री चौक निवासी 35 वर्षीय छोटू उर्फ मनोहर पिता इमानबेल मसीह अकेले रहता था। उसकी रक्तरंजित लाश बुधवार की सुबह मकान के आंगन से बरामद की गई थी। चूंकि मृतक शराब पीने का आदि था, इसलिए पुलिस पहले तो यही अनुमान लगाया कि छोटू शराब के नशे में गिर गया तथा चोट आने से उसकी मौत हो गई लेकिन जब छोटू की सार्ट पीएम रिपोर्ट मिली तो पुलिस चौक गई। पीएम रिपोर्ट में चिकित्सकों ने छोटू के सिर पर किए गए प्रहार व उससे आई चोटो के कारण मौत होने का उल्लेख किया। लिहाजा पुलिस ने अज्ञात आरोपी के विरूद्ध हत्या का मामला दर्ज उसका सुराग लगाने में जुट गई। पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार व अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संदीप मिश्रा के दिशा-निर्देश व नगर पुलिस अधीक्षक एम.पी.प्रजापति के कुशल मार्गदर्शन में मामले की विवेचना करते हुए माधवनगर थाना प्रभारी संजय दुबे व उनकी टीम में इस अंधे कत्ल की गुत्थी को चंद घंटों में सुलझा लिया और छोटू उर्फ मनोहर मसीह की हत्या के आरोप में उसके रिश्ते के भांजे अनुराग सोनखरे को गिरफ्तार कर लिया।

मकान के कागज बने कारण

इस अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने पुलिस नियंत्रण कक्ष में बुलाई गई पत्रकारवार्ता को संयुक्त रूप से संबोधित करते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संदीप मिश्रा व नगर पुलिस अधीक्षक एम.पी.प्रजापति ने बताया कि मृतक का बड़ा भाई लखेरा चर्च में पादरी था। उसे चर्च से लगभग 98 हजार रूपए मिले थे। जिसे वह अपनी मृत्यु के पूर्व बहन प्रेमलता सोनखरे को यह कहकर दिया था कि वह इस पैसे से मनोहर की मदद करती रहे। इसके बाद मनोहर की बहन प्रेमलता सोनखरे ने कुछ पैसे से उसका मकान बनवा दिया था तथा कुछ पैसे अपने पास रख लिए थे।

इसके अलावा मनोहर के मकान के कागज बहन प्रेमलता सोनखरे अपने पास ही रखी थी। मकान के कागज बहन प्रेमलता सोनखरे से लेने मनोहर आए दिन शराब के नशे में उसके घर पहुंच कर अनाप-शनाप बोलता रहता था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि घटना के कुछ दिन पूर्व मनोहर बहन प्रेमलता सोनखरे के यहां गया और मकान के कागजों की मांग करते हुए बहन प्रेमलता सोनखरे को कुछ ऐसे शब्द कह दिए जो बहन प्रेमलता सोनखरे के पुत्र अनुराग सोनखरे को नागवार गुजरे और अनुराग ने मन ही मन मामा मनोहर को ठिकाने लगाने का प्लान बना लिया और प्लान के तहत मंगलवार व बुधवार की दरम्यानीरात शराब के नशे में धुत्त मामा मनोहर के सिर में राड से हमला कर उसे मौत के घाट उतार दिया और मकान के आंगन में इस तरह से लाश को रख दिया। जिससे यह लगे कि मनोहर की मौत शराब के नशे में गिरने की वजह से हुई है।

इनकी रही सराहनीय भूमिका

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के निर्देश व मार्गदर्शन में इस अंधे कत्ल की गुत्थी सुलझाने में माधवनगर थाना प्रभारी संजय दुबे, रंगनाथ नगर पुलिस चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक सेल्वाराज पिल्लई, सहायक उपनिरीक्षक आर.के.झारिया, प्रधान आरक्षक राजेश कोरी, मनोज कुड़ापे, छेदीलाल, आरक्षक लालजी यादव, गणेश सिंह, वीरेन्द्र दहायत, महेन्द्र दुबे, सतीश तिवारी व महिला आरक्षक जलधारा राजपूत की भूमिका सराहनीय रही। सभी को पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने पुरूस्कृत करने की घोषणा की है।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber