दुधमुंहा बेटा रो रहा था तो पिता ने कुएं में फेंका

सीधी। मां को बुखार था और वह सो रही थी। रात में दुधमुंहा बेटा रोने लगा तो पिता ने गुस्से में आकर उसे कुएं में फेंक दिया। आरोपित ने दूसरे दिन बच्चा चोरी होने की शिकायत पुलिस से की। तीन दिन बाद जब मासूम का शव बरामद हुआ तो पुलिस ने शक के आधार पर पिता से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपराध कबूल कर लिया। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार शनिवार को अदालत में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।

बहरी थानांतर्गत गजरही गांव निवासी लवकुश कोल (22) पिता गिरधारी कोल ने 25 सितंबर को थाना बहरी में शिकायत दर्ज कराई कि उसके दस माह के बच्चे प्रशांत को रात में किसी ने चोरी कर लिया है। पुलिस ने अज्ञात आरोपितों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर लापता बच्चे की तलाश शुरू की।

दूसरे दिन सुबह घर के सामने के कुएं में मासूम का शव मिला। पुलिस ने जब पूछताछ की तो पिता लवकुश कोल पत्नी पर बच्चे की हत्या करने का आरोप लगाने लगा। पुलिस को शक हुआ और उसने सख्ती बरती तो आरोपित पिता ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

गुस्से में आकर कर दी इकलौते पुत्र की हत्या

आरोपित ने बताया कि रात में बच्चा काफी रो रहा था। पत्नी बुखार के कारण सो रही थी। बच्चे को चुप कराने का प्रयास किया लेकिन वह चुप नहीं हुआ। तब गुस्से में बच्चे को ले जाकर कुएं में फेंक दिया। बच्चा दंपती का इकलौता पुत्र था।