पब्लिक ट्रांसपोर्ट में खाद्य पदार्थ की सप्लाई पर बैन

ग्वालियर। पब्लिक ट्रांसपोर्ट में मावा-पनीर,दूध या किसी भी तरह के खाद्य पदार्थ की सप्लाई करना अब आसान नहीं होगा। कलेक्टर अनुराग चौधरी ने यात्री वाहनों में खाद्य पदार्थों के परिवहन पर रोक लगाते हुए धारा-144 के तहत गुरूवार को आदेश जारी कर दिए। मिलावटखोर अभी तक बसों व अन्य छोटे वाहनों के जरिए बड़ी मात्रा में मावा-पनीर व मिल्क केक की खेप सबसे ज्यादा सप्लाई कराते हैं जो अब पाया गया तो सैंपलिंग के साथ साथ धारा 188 में भी दंडात्मक कार्रवाई होगी। वहीं 12 लाख रूपए से ज्यादा टर्न ओवर वाले मिठाई कारोबारियों को दुग्ध उत्पाद बनाने में उपयोग होने वाले दूध व अन्य सामग्री का पूरा ब्यौरा देना होगा। यह भी धारा-144 के दायरे में लिया गया है।

ज्ञात रहे कि मिलावटखोरों के खिलाफ जिला प्रशासन का अभियान चल रहा है। इस मामले में खुद मुख्य सचिव ने ग्वालियर प्रवास के दौरान निर्देशित किया था कि मिलावट के खिलाफ अभियान पूरे प्रदेश में नहीं रूकेगा। जिला योजना समिति में भी प्रभारी मंत्री ने मिलावटखोरों पर प्रभावी कार्रवाई के निर्देश जारी किए। ग्वालियर में बड़ी संख्या में मिलावटखोर सक्रिय हैं इसी कारण यहां मोहना में दूध कारोबारी पर रासुका भी लगाई जा चुकी है और कुछ कारोबारियों पर एफआईआर भी दर्ज कराई जा चुकी है।

परिवहन करना है तो परमिशन लेगा होगी

दुग्ध या दुग्ध उत्पाद सहित किसी भी ऐसे सामान का परिवहन एक जगह से दूसरी जगह या अन्य जिले व प्रदेश में करना है तो संबंधित थाना और अभिहीत अधिकारी पुष्पा पुषाम को सूचना देकर परमिशन लेना होगी। अगर बिना परमिशन सामग्री पाई गई तो संबंधित थाने में एफआईआर करा दी जाएगी।

मिठाई कारोबारी नाम भी रखेंगे मेंटेन

मिठाई कारोबारी जिससे भी दूध या अन्य माल लेते हैं,उसमें दूधिए के नाम व पूरा पता सहित ब्यौरा रखना होगा। कहीं से सामग्री मंगवा रहे हैं तो उस फर्म या व्यक्ति का ब्यौरा रखना होगा। यह मासिक विवरण अभिहीत अधिकारी को भेजना होगा।

ट्रॉपिलाइट फूड पर छापेमारी,सैंपलिंग

तानसेन रोड स्थित ट्रॉपिलाइट फूड प्रायवेट लिमिटेड की फैक्ट्री पर गुरूवार को फूड सेफ्टी टीम ने छापा मारा। यह बेकरियों और अन्य इकाइयों को केक की क्रीम बे्रड व अन्य सामग्री सप्लाई देती है। यहां पूरी यूनिट का फूड ऑफिसर लखनलाल कोरी,सतीश शर्मा,विनोद सरगैया,निरूपमा शर्मा की टीम ने निरीक्षण किया। यहां चावल का बड़ा स्टॉक मिला और पूरी प्रोसेस को फूड टीम ने समझा। यहां से टीम ने क्रीम मफिन,ब्रेड,क्रीमी मिक्स के सैंपल लिए। यहां बड़ी हाइटेक मशीनें लगीं है जो क्रीम बना रही थी। यूनिट की मालिक हितैशी सिंह हैं और मौके पर इंचार्ज सोनाली सक्सेना मिलीं। यह फर्म प्यूरालाइट डेयरी एंड एग्री फार्म से मिल्क व मिल्क प्रोडक्ट सप्लाई लेती है और प्यूरालाइट पर कुछ दिनों पहले ही एसडीएम पुष्पा पुषाम ने जांच की थी।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber