DIG बोले- पुलिस अफसर और जवान नहीं लगाएंगे हेलमेट तो उनका भी कटेगा चालान

Advertisements

ग्वालियर। बारिश के कारण डीआईजी एके पांडे मंगलवार को पुलिस लाइन का निरीक्षण नहीं कर सके, न ही परेड हो पाई। लेकिन लाइन के सामुदायिक भवन में जवानों की समस्याओं का निराकरण करने डीआईजी ने दरबार जरूर लगाया। इस दौरान डीआईजी व एसपी नवनीत भसीन का मत था कि पुलिस अफसरों और जवानों को भी हेलमेट पहनकर और सीट बेल्ट बांधकर वाहन चलाने की आदत डालनी होगी।

थाना प्रभारियों व रक्षित निरीक्षक को यह दायित्व सौंपा कि वे नजर रखें कि कोई जवान ट्रैफिक नियम न तोड़े। जवानों की आदत बदलने जरूरत हुई तो पुलिस लाइन, डीपीओ व थानों पर चालान करने के लिए सूबेदार की तैनाती की जाएगी। इसके बाद शहर के लोगों को हेलमेट व सीट बेल्ट बांधने के लिए जागरूक करने के साथ चालान करने की कार्रवाई की जाए।

संगीन वारदात ट्रेस करना हर टीआई की जिम्मेदारी

दरबार में मौजूद जवानों को संबोधित करते हुए डीआईजी ने कहा, हर संगीन वारदातों को ट्रेस करने की जिम्मेदारी शहर व देहात थानों में तैनात टीआई व बल को अपनी समझनी चाहिए। क्योंकि यह जरूरी नहीं कि वारदात जिस थाना क्षेत्र में हुई है, उसी थाना क्षेत्र के बदमाश ने अपराध किया हो। वहीं एसपी ने कहा कि ट्रैफिक की जवाबदारी सिर्फ सफेद शर्ट व नीली पेंट पहने जवानों की न समझें। अपराध कंट्रोल के साथ-साथ पुलिस बल की बड़ी जिम्मेदारी ट्रैफिक व्यवस्थित करना भी है। जवानों को रास्ते में यदि ट्रैफिक जाम मिले तो 5-7 मिनट खड़े होकर उसे क्लियर कराएं।

डीआईजी-एसपी के दरबार में जवानों ने बताईं अपनी परेशानी

1- पुरानी छावनी थाना में छत से टपकता है पानी

दरबार में एक जवान ने माइक थामकर कहा- श्रीमान जी पुरानी छावनी थाने की छत से जगह-जगह पानी टपकता है। बैठने में परेशानी होती है और रिकॉर्ड के भी गीले होने की चिंता सताती है। इस पर डीआईजी ने तत्काल छत की मरम्मत कराने के निर्देश दिए।

2- एसएएफ बैरक के बिल का नहीं हो रहा भुगतान

गोला का मंदिर थाना की एसएएफ बैरक का बिजली बिल का भुगतान नहीं होने की समस्या एक जवान ने बताते हुए कहा, बिल कमांडेट के नाम से आते हैं, जबकि लाइन से एसपी के नाम पर आने वाले बिलों को ही जमा किया जा सकता है। इस पर डीआईजी ने निर्देशित किया कि नाम संशोधित कराकर 2 लाख का बकाया बिल जमा कराने के निर्देश दिए।

3- बीडीएस के 9 वाहनों के लिए नहीं है गैरेज

बीडीएस प्रभारी संतोष सिंह ने डीआईजी को बताया, बीडीएस दस्ते के पास 9 वाहन हैं, जो इलेक्ट्रोनिक उपकरणों से सुसज्जित हैं। लेकिन इन्हें खड़ा करने के लिए गैरेज नहीं है। एसपी ने बताया कि गैरेज निर्माण के लिए 5-5 लाख के तीन प्रस्ताव बनाकर पीएचक्यू को भेजने के निर्देश दिए हैं।

4- नवआरक्षक का सवाल- सर, अवकाश नहीं मिल रहा

नवआरक्षक ने दरबार में कहा- अवकाश नहीं मिल रहा है। साथ ही उनसे कई और सवाल भी किए। इस पर आला अफसरों ने उससे पूछा कि ट्रेनिंग हो गई या अभी नहीं, कब से भर्ती हो। जवाब दिया- दो साल से। डीआईजी ने आरआई को निर्देशित किया कि पहले नवआरक्षकों को ट्रेनिंग कराओ। एसपी ने बताया कि पुलिस लाइन में तैनात जवानों को भी रोस्टर के हिसाब से अवकाश देने पर वह सहमत है।

Advertisements