बैंगलूरू में काम कर रहे कैमोर के युवा ठेका श्रमिक की संदिग्ध मौत

कैमोर। कैमोर निवासी एक युवक की कर्नाटक के बैंगलूरू में बीते 13 सितंबर की रात संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। राजेश दाहिया नामक युवक कैमोर के वार्ड क्रमांक 2 भटिया मोहल्ले का निवासी था जो रोजगार के सिलसिले में बैंगलूरू गया था। 

गौरतलब है कि कैमोर में एसीसी और एवरेस्ट इंडस्ट्रीज जैसे बड़े उद्योग होने के बावजूद इन उद्योगों में स्थानीय युवाओं को रोजगार नहीं मिल पाता। पिछले कुछ सालों में ठेका मजदूरों की सं या भी घटकर आधी हो जाने से यहां बेरोजगारी और बेकारी और बढ़ी है। उद्योगों में बड़े-बड़े ठेके बाहरी ठेकेदारों को दिए जा रहे जो ठेका मजदूर भी बाहर से लाते हैं। स्थानीय युवाओं को रोजगार नहीं मिलने से उन्हें काम की तलाश में दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है जहां काम के दौरान कभी किसी हादसे के कारण तो कभी किसी बीमारी के कारण उनकी मौत हो जाती है। सबसे दुखद और त्रासदीपूर्ण बात तो यह है कि आर्थिक तंगी के चलते ऐसे युवाओं के परिजन उनका शव तक यहां नहीं ला पाते। ऐसा ही कुछ बैंगलूरू में मृत हुए युवक राजेश दाहिया के परिवार के साथ भी हो रहा है। 

बताया गया कि क्षेत्र के ही कुछ युवाओं के साथ राजेश दाहिया भी काम के सिलसिले में बैंगलूरू चला गया था जहां वह ठेका श्रमिक के रूप में किसी परियोजना में काम करता था। बीते 13 सितंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में उसकी मौत हो जाने की दुखद खबर परिजनों को मिली है। परिवार इतना गरीब है कि उसका शव बैंगलूरू से यहां ला पाने की स्थिति में नहीं है। वार्ड क्रमांक 2 के पार्षद संतोष केवट द्वारा शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए सोशल मीडिया के माध्यम से परिवार की आर्थिक सहायता के लिए अपील की गई है। राजेश दाहिया ने बैंगलूरू में आत्महत्या की या किसी अन्य परिस्थिति में उसकी मौत हुई इसका खुलासा अभी नहीं हो पा रहा है।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber