हत्या के मामले में कठोर आजीवन कारावास की सजा

लवकुशनगर/छतरपुर। शराब पीने के मामूली विवाद को लेकर लोहे की छड़ से माॅ बेटे की बेरहमी से मारपीट की थी। मारपीट से बेटे की मौके पर ही मौत हो गई थी। इस मामले में अपर सत्र न्यायाधीश केएन अहिरवार की अदालत ने हत्या के आरोपी को उम्रकैद के साथ दो हजार रुपए के जुर्माना की सजा सुनाई है।
एडवोकेट राकेश दीक्षित ने बताया कि अलीपुर गांव की रहने वाली फरियादिया बड़ी बहु उर्फ भूरीबाई अनुरागी ने गौरिहार थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई कि 12 मई 2017 को शाम करीब 4 बजे वह अपने बेटे गंगादीन के साथ घर में खाना खा रही थी। उसी दौरान अलीपुर गांव के किशोर पिता राम आसरे अनुरागी मोटर साइकिल से घर आया। और गंगादीन से बोला शराब पीने चलो। गंगादीन ने शराब पीने से मना किया तो किशोर ने गंगदीन से विवाद करना शुरु किया। किशोर ने घर के बाहर रखी लोहे की छड़ उठाकर गंगादीन की मारपीट करने लगा। फरियादिया बचाने लगी तो उसकी भी मारपीट की। मारपीट से गंगदीन की मौके पर ही मौत हो गई और किशोर मोटर साइकिल में बैठकर भाग गया। गौरिहार पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया। एसआई शैलेंद्र सिंह ने आरोपी किशोरी को गिरफ्तार कर मामला कोर्ट में पेश किया। 
न्यायाधीश केएन अहिरवार की कोर्ट ने सुनाया फैसलाः
अभियोजन की ओर से अपर लोक अभियोजक श्रीकेश यादव ने पैरवी करते हुए मामले के सभी सबूत एवं गवाह कोर्ट में पेश किए और आरोपी को कठोर सजा देने की अपील की। अपर सत्र न्यायाधीश केएन अहिरवार की कोर्ट ने आरोपी किशोर अनुरागी को दोषी ठहराते हुए आईपीसी की धारा 302 में कठोर आजीवन कारावास के साथ एक हजार रुपए जुर्माना और धारा 307 में दस साल की कठोर कैद के साथ एक हजार रुपए के जुर्माना की सजा सुनाई।