RITHI-प्रभारी खाद्य अधिकारी के विरूद्घ जांच में हो रही लीपापोती !

KATNI/ रीठी। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के एक अधिकारी पर समर्थन मूल्य पर गेहूं की सरकारी खरीदी के दौरान सहकारी समिति के कर्मचारियों से कमीशन की मांग की गई थी। कर्मचारी जब इसके लिए तैयार नहीं हुए तो उन्हें गेहूं खरीदी कार्य से हटा कर दूसरे कर्मचारियों से खरीदी कराई गई। आधा दर्जन से अधिक कर्मचारियों ने कमीशन मांगने वाले अधिकारी के विरूद्घ खाद्य मंत्री से शिकायत की। शिकायत पर जांच के आदेश भी मंत्री द्वारा दिए गए पर जांच के नाम पर दिखावा हो रहा। जांच अधिकारी द्वारा शिकायकर्ता कर्मचारियों के बयान लेना तो दूर उनसे संपर्क तक नहीं कर रहे। अलब्ता शिकायत करने वाले कर्मचारियों को प्रभारी खाद्य अधिकारी से निपटा देने की धमकियां मिल रहीं।

शिकायतकर्ता कर्मचारियों में से एक सहायक सहकारिता प्रबंधक रीठी अनिल राय ने बताया कि प्रभारी खाद्य अधिकारी रविकांत ठाकुर द्वारा गेहूं खरीदी में 5 रूपये प्रतिक्विंटल कमीशन की मांग की गई थी। जब कर्मचारियों ने कमीशन देने से मना कर दिया तो उन्होंने अनिल राय, दिनेश द्विवेदी, राजेश पांडेय, बल्लू पटेल, नंदू दुबे, शिवशंकर आदि कर्मचारियों को गेहूं खरीदी कार्य से हटाकर अन्य कर्मचारियों की ड्यूटी गेहूं खरीदी में लगाकर खरीदी कराई। कर्मचारियों ने उच्चाधिकारियों सहित खाद्य एवं सहकारिता मंत्री तक से इसकी शिकायत की। खाद्य मंत्री ने शिकायत की जांच के आदेश दिये और रायसेन में पदस्थ डीएसओ चेतराम भगत को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया। कर्मचारियों ने बताया कि बीते 8 अगस्त को जांच अधिकारी श्री भगत कटनी आये थे। उन्होंने किसी भी कर्मचारी से मुलाकात नहीं की न ही किसी के बयान लिये। शिकायतकर्ता अनिल राय सहायक सहकारिता प्रबंधक ने उनसे दूरभाष पर संपर्क किया तब भी उन्होंने बाद में बयान लेने की बात कहकर टाल दिया। कर्मचारियों का यह भी आरोप है कि जांच अधिकारी कटनी प्रवास के दौरान प्रभारी अधिकारी रविकांत के साथ रहे।

निपटा देने की दे रहे धमकी
सहायक सहकारिता प्रबंधक रीठी अनिल राय ने बताया कि प्रभारी खाद्य अधिकारी रविकांत ठाकुर अब दूरभाष पर कर्मचारियों को धमकी दे रहे हैं। अनेक कर्मचारियों को धमकाते हुए उन्होंने कहा है कि ज्यादा मत उड़ो, रहना कटनी में ही है, निपटा कर रख दूंगा। अधिकारी की इस धमकी का असर भी हो रहा है। शिकायत करने वाले 10 में से 4 कर्मचारी अब अधिकारी के विरूद्घ बयान देने से कतरा हरे हैं।

तबादला कर हो निष्पक्ष जांच
सहकारिता कर्मचारियों ने खाद्य विभाग के उच्चाधिकारियों से मांग की है कि रविकांत ठाकुर के कटनी मे ंपदस्थ रहते निष्पक्ष जांच संभव हनीं अतः उनका तबादला कहीं और करके इस मामले की जांच कराई जाये।