लो अब महात्मा गांधी के पोते ने सरकार के Article 370 फैसले का किया विरोध

जयपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पोते तुषार गांधी ने शुक्रवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा मनमाने ढंग से हटाया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि देश में लोकतंत्र को दबाया जा रहा है।

जयपुर में गांधी विरासत मंच की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में तुषार गांधी ने आरोप लगाया कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाते समय किसी भी लोकतांत्रिक प्रक्रिया को नहीं अपनाया गया। यह काम मनमाने ढंग से किया गया।

उन्होंने कहा कि यदि कश्मीर के लोग भी यही चाहते हैं तो वहां सेना क्यों तैनात की गई। धार्मिक असहिष्णुता के बारे में तुषार गांधी ने कहा कि लोगों को ‘जय श्रीराम’ कहने पर मजबूर किया जा रहा है। इसमें भक्ति कहां है।

उन्होंने कहा कि धार्मिक असहिष्णुता महात्मा गांधी के समय भी थी और इसी के चलते देश का विभाजन भी हुआ, लेकिन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी इसके पक्ष में नहीं थे।

तुषार गांधी ने कहा कि केंद्र सरकार ने सूचना का अधिकार कानून कमजोर कर दिया है और लोगों की आजादी पर अतिक्रमण किया जा रहा है। लेकिन, इसके खिलाफ कोई आवाज नहीं उठना चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि कोई व्यापारी या उद्योगपति आत्महत्या करता है तो पूरे देश में चर्चा और बहस होने लगती है, लेकिन किसान आत्महत्या करता है तो कोई दो आंसू भी नहीं बहाता।