बोर्ड का बड़ा फैसला, अब इस देश की क्रिकेट टीम में शामिल होंगे ट्रांसजेंडर खिलाड़ी

नई दिल्ली। गुरुवार 8 अगस्त को ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड (CA) ने ट्रांसजेडर खिलाड़ियों को लेकर एक बड़ा फैसला किया है। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया जल्द अपनी टीम में ट्रांसजेडर खिलाड़ियों को जगह देगा। इसके लिए ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने गाइडलाइन भी जारी कर दी हैं। दिशानिर्देशों के सामने आने के बाद अब ट्रांसजेंडर भी उच्चतम स्तर पर खेल में भाग ले सकते हैं।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया की नीति के मुताबिक जो राज्य और राष्ट्रीय महिला टीम में खेलने की इच्छा रखते हैं वो ट्रांसजेंडर और लिंग-विविध खिलाड़ियों के लिए एक टेस्टोस्टेरोन (पुरुष और स्त्री के हारमोन वाला टेस्ट) सीमा निर्धारित की है। ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम में शामिल होने के लिए ट्रांसजेंडर खिलाड़ी को टेस्टोस्टेरोन मापदंड पर खरा उतरना होगा। ट्रांसजेंडर खिलाड़ियों को 12 महीनों में कम से कम 10 नैनोमीटर प्रति लीटर से कम का टेस्टोस्टेरोन सांद्रता का टेस्ट देना होगा।

क्रिकेटर्स को इस बात भी प्रदर्शन करना होगा कि उनका जेंडर कंसिस्टेंट है। यह एक ऐसा होना चाहिए जिसके साथ वे अपना दैनिक जीवन जी रहे हैं। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड का ये निर्णय आईसीसी के लिंग विविधता दिशानिर्देशों से निकटता से जोड़ता है। दिशानिर्देशों में आवश्यक सुविधाएं प्रदान करने, गोपनीयता और व्यक्तिगत जानकारी एकत्र करने भी शामिल है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के चीफ एग्जक्यूटिव केविन रोबर्ट्स ने कहा है, “यह भी स्पष्ट कर दिया जाए कि खेल में किसी भी तरह का भेदभाव सहन नहीं किया जाएगा। इसका कोई मतलब नहीं है कि आज लोगों के साथ भेदभाव, उत्पीड़न या बहिष्कृत किया जाता है, क्योंकि वे कौन हैं? ये सही नहीं है। आज हम हर स्तर पर खेल में एक पुष्टि लिंग पहचान वाले लोगों को शामिल करने और हमारे समुदायों में सभी लोगों को सुनिश्चित करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करते हैं।”