अनुच्छेद 370 हटाने का संकल्प राज्यसभा में पेश किया, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश होंगे

नई दिल्‍ली/जम्‍मू, एजेंसी। जम्‍मू-कश्‍मीर में बड़ी संख्‍या में अतिरिक्‍त सुरक्षा बलों की तैनाती के बाद हलचल बढ़ गई है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को उनके घरों में नजरबंद कर लिया गया है। कई नेताओं को हिरासत में ले लिया गया है। घाटी में इंटरनेट सेवाओं बंद करने के साथ ही जम्‍मू और श्रीनगर में धारा-144 लगा दी गई है। जम्‍मू में सभी स्‍कूल कॉलेजों को बंद कर दिया गया है। वादी के महत्वपूर्ण संस्थानों और संवेदनशील क्षेत्रों की चौकसी बढ़ा दी गई है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा बल तैनात हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्‍यसभा में अनुच्‍छेद 370 को हटाने का संकल्‍प पेश किया जिसे राष्‍ट्रपति ने मंजूरी दे दी है। नए फैसले में जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग कर दिया गया है। लद्दाख अब एक अलग केंद्र शासित प्रदेश होगा।नए फैसले के तहत जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है। 

अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा प्राप्त है, केंद्र सरकार रक्षा, विदेश और संचार जैसे अहम विषयों को छोड़कर राज्य के बाकी मामलों में दखल नहीं दे सकती।

अनुच्छेद 370 हटने से राज्य का पुनर्गठन होगा, जम्मू-कश्मीर अब दिल्ली की तरह विधानसभा वाला केंद्र शासित प्रदेश होगा

लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाएगा, लद्दाख में विधानसभा नहीं होगी

कश्मीर का विशेष दर्जा हटाने का संकल्प पहले संसद से पारित होगा, राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद अनुच्छेद 370 कश्मीर से निष्प्रभावी हो जाएगा

कश्मीर के मुद्दे को लेकर संसद में गहमा-गहमी का माहौल के बीच गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर में धारा 370 को हटाने का संकल्प पेश किया। इसके बाद संसद में हो-हल्ला शुरू हो गया और संसद की कार्रवाई को स्थगित कर दिया गया है। इसके बाद वह करीब 12 बजे लोकसभा में कश्मीर मुद्दे पर बयान देंगे।

अमित शाह ने कहा कि हम जो चारों संकल्प और बिल लेकर आए हैं, वह कश्मीर मुद्दे पर ही हैं। संकल्प प्रस्तुत करता हूं। अनुच्छेद 370 (1) के अलावा सभी खंड राष्ट्रपति के अनुमोदन के अलावा खत्म होंगे। शाह ने कहा कि राष्ट्रपति के अनुमोदन के बाद अनुच्छेद 370 के सभी खंड लागू नहीं होंगे।

गृह मंत्री अमित शाह ने अनुच्छेद 370(1) के अलावा अनुच्छेद 370 के सभी खंड हटाने का संकल्प जैसे ही पेश किया, राज्यसभा में विपक्ष ने जोरदार हंगामा शुरू कर दिया। अमित शाह के इस संकल्प का सीधा सा अर्थ है कि जम्मू-कश्मीर में धारा 370 को हटा दिया गया है।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार सुबह 9.30 बजे अपने आवास पर कैबिनेट की अहम बैठक बुलाई थी। करीब 40 मिनट चली इस बैठक के बाद गृहमंत्री अमित शाह सुबह 10.15 बजे पीएम आवास से निकल गए थे। इसके साथ ही कैबिनेट के अन्य सदस्य भी वहां से निकलने लगे थे।

सुबह से ही पीएम नरेंद्र मोदी के आवास पर गृहमंत्री अमित शाह पहुंच चुके थे। इसके पहले उन्होंने कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद से भी मुलाकात की थी। पीएम आवास पर एनएसए अजीत डोवाल भी मौजूद थे। इस बारे में मीडिया में कोई जानकारी नहीं दी गई है।

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल लोकसभा परिसर में कांग्रेस सांसदों की बैठक के लिए पहुंच चुके हैं। बताया जा रहा है कि संसद में तीन बिल पेश किए जाएंगे।

Enable referrer and click cookie to search for pro webber