Katni : राशन दुकानों में मनमानी करने वाले सेल्समैन पर होगी कार्यवाही

कटनी। कलेक्टर शशिभूषण सिंह ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत जिले की सभी उचित मूल्य दुकानों का नियमित निरीक्षण करने के निर्देश अधिकारियों को दिये हैं। उन्होंने कहा कि राशन दुकानें नियमित रुप से खुलें और पात्र हितग्राहियों को खाद्यान्न का वितरण हर माह सुनिश्चित किया जाये। खाद्यान्न वितरण में अनियमितता या गड़बड़ी करने वाले सेल्समैन एवं प्रबंधकों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाये। गुरुवार को खाद्य, नागरिक आपूर्ति निगम, कृषि, सहकारिता विभाग के अधिकारियों की बैठक में यह निर्देश दिये गये।
इस मौके पर उप संचालक कृषि राठौर, जिला प्रबंधन नान पियूष माली, सहायक पंजीयक सहकारिता अरुण मेश्राम, प्रभारी खाद्य अधिकारी रविकांत ठाकुर सहित कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी भी उपस्थित थे। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के तहत सार्वजनिक वितरण प्रणाली की समीक्षा में कलेक्टर ने कहा कि राशन दुकानों में सेल्समैन मनमानी नहीं करें। खाद्य एवं राजस्व विभाग के अधिकारी राशन दुकानों का निरीक्षण कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें। सेल्समैन द्वारा गड़बड़ी या अनियमितता करने पर उसके विरुद्ध पुलिस में भी प्रकरण दर्ज करायें। यदि एक सेल्समैन के पास दो या तीन दुकानों का प्रभार हो, तो प्रभार वाली दुकान और ग्राम पंचायत की दीवार पर सेल्समैन के आने के दिन, नाम, मोबाईल नम्बर, दुकान खुलने का समय और दिवस स्पष्ट रुप से अंकित करायें।
473 में से 65 पीओएस मशीन लम्बे समय से खराब
कलेक्टर ने कहा कि मध्यान्ह भोजन, साझा चूल्हा के समूहों और छात्रावासों को खाद्यान्न का आवंटन समय पर प्राप्त होना चाहिये। राशन वितरण में उपभोक्ताओं को पीओएस मशीन के माध्यम से वितरण का प्रतिशत बढ़ायें।
जिले में कुल आवंटित 473 पीओएस मशीन में से 65 मशीनें लम्बे समय से खराब हैं। सर्विस प्रोवाईडर को इन मशीनों को बदलने को कहें या एजेन्सी को ब्लैक लिस्टेड करायें। प्रभारी जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि जुलाई में ्र2 लाख 15 हजार पात्र परिवारों में से 1 लाख 75 हजार 290 परिवारों को पीओएस मशीन से खाद्यान्न वितरण किया गया है। जो 73 प्रतिशत है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में अब तक जिले में 1 लाख 82 हजार 887 परिवारों की केवायसी भरी गई है। जिनमें एक लाख 52 हजार 569 केवायसी क्लियर हुई हैं तथा एक लाख 43 हजार 220 निर्धन परिवारों के यहां निःशुल्क गैस कनेक्शन स्थापित कराया गया है।
समितियों के माध्यम से किया 4 हजार टन यूरिया का वितरण
समितियों के माध्यम से 4 हजार टन यूरिया का वितरण किया गया है। 1400 टन यूरिया और प्राप्त हो गया है। डीएपी 5400 टन उपलब्ध था, जिसमें 3300 टन वितरित हुआ है। 2100 टन डीएपी शेष है। डीएपी की एक रैक की डिमाण्ड और भेजी गई है। कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि खरीफ फसलों की बुवाई का यह पीक टाईम है। किसानों को खाद-बीज की उपलब्धता बनाये रखें। बारिश कम होने की स्थिति में खरीफ फसलों के लिये सितम्बर, अक्टूबर माह में सिंचाई की आवश्यकता पड़ने पर सिंचाई नहरों और जलाशयों से पानी देने की कार्ययोजना भी अभी से तैयार कर लें।