Triple Talaq Bill: लोकसभा में पेश हुआ तत्काल तीन तलाक बिल, आजम की टिप्पणी पर हंगामा

नई दिल्ली। संसद में इन दिनों कईं महत्वपूर्ण बिलों पर चर्चा के बाद लोकसभा में उन्हें पास किया गया है। इसी कड़ी में आज सदन में तत्काल तीन तलाक विधेयक चर्चा के लिए पेश किया गया है। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यह बिल सदन के समक्ष पेश किया है।

हालांकि, कांग्रेस समेत कईं विपक्षी दलों ने इस बिल का विरोध किया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि इस बहाने सरकार ट्रंप के बयान से जनता का ध्यान हटाना चाहती है।

बिल सदन में रखते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद 24 जुलाई 2019 तक तीन तलाक के 345 केस सामने आए हैं। मैं अपील करता हूं कि यह मुद्दा धर्म, सियासत, पूजा का नहीं बल्कि नारी सम्मान का है। हमने उन तीन आपत्तियों को इस बिल में एड्रेस किया है जिन्हें लेकर सदन में विपक्ष ने मांग उठाई थी।

इसके बाद अब केस तब होगा जब पीड़िता का परिजन, खुद पीड़िता या कोई करीबी रिश्तेदार केस दायर करेगा। साथ ही मजिस्ट्रेट के माध्यम से बेल मिल सकेगी लेकिन पीड़िता का पक्ष सुनने के बाद

बिल पर चर्चा के दौरान बीजद ने इसका समर्थन किया। बीजद सांसद अनुभव मोहंती ने कहा कि हम इस बिल का समर्थन करते हैं लेकिन इसमें मेंटनेंस को लेकर जो मुद्द है उस पर ध्यान दिया जाना चाहिए।

जनता दल ने इस बिल का विरोध किया और इसके सांसद राजीव रंजन ने कहा कि इस बिल की वजह से एक समुदाय विशेष में अविश्वास पैदा होगा। हमारी पार्टी इसका समर्थन नहीं करेगी।

सदन में चर्चा के दौरान एक स्थिति ऐसी भी आई जब सपा सांसद आजम खान ने आसंदी पर बैठीं सभापति को लेकर ऐसी टिप्पणी कर दी जिस पर हंगामा मच गया और सत्ता पक्ष ने माफी की मांग कर दी।

आजम खान ने आसंद पर बैठी भाजपा सांसद रमा देवी को लेकर कह दिया कि, ‘आप मुझे इतनी अच्छी लगती है कि मेरा मन करता है आपकी आंखों में मैं आंखें डाले रहूं।’