MP में भाजपा को जोरदार झटका, दो विधायकों ने दिया सरकार का साथ, दंड संशोधन विधेयक पर पक्ष में 122 मत

भोपाल। कर्नाटक के बाद मध्य प्रदेश में सियासी नाटक शुरू हो गया है। इसी बीच दंड संशोधन विधेयक पर वोटिंग हुई। इसमें कांग्रेस को बहुमत जिला जबकि भाजपा को झटका लगा। कांग्रेस को 122 वोट मिले। जानकारी के अनुसार भाजपा के दो विधायकों ने क्राॅस वोटिंग की। इसमें मैहर से विधायक नारायण त्रिपाठी और दूसरे शरद कोल हैं, जो ब्यौहारी से विधायक हैं। वाेटिंग के बाद सदन की कार्रवाई अनिश्चितकाल के लिए स्‍थगित कर दी गई। दोनों विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने की खबर है।

वोटिंग के बाद सीएम कमलनाथ ने कहा कि, कई दिनों से ये बात चल रही थी कि ये सरकार अल्पमत में है। लेकिन आज दंड संशोधन विधेयक के दौरान हुई वोटिंग में भाजपा के दो विधायकों ने हमारे पक्ष में वोट किया। इसमें मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी और ब्यौहारी के विधायक शरद कोल हैं।

ANI

@ANI
Madhya Pradesh CM Kamal Nath: Everyday BJP says we are a minority govt and one which could fall any day. Today in voting in assembly(on criminal law amendment), two BJP MLAs voted in favour of our Govt

View image on Twitter
303
17:44 – 24 Jul 2019
Twitter Ads information and privacy
100 people are talking about this
उन्होंने कहा कि, “मुझे ये बात साबित करनी थी कि ये सरकार अल्पमत में नहीं थी और आज विधेयक के पक्ष में हुई वोटिंग से ये साफ हो गया है। इतना ही नहीं बसपा, सपा और निर्दलीय विधायक भी हमारे साथ हैं। इस मौके पर शरद त्रिपाठी ने कहा कि, मेरी घर वापसी हुई है।”

ANI

@ANI
Two BJP MLAs vote in favour of Kamal Nath Govt during voting on criminal law(amendment) in Madhya Pradesh assembly

View image on Twitter
257
17:46 – 24 Jul 2019
Twitter Ads information and privacy
90 people are talking about this
नेता प्रतिपक्ष ने आरोप लगाया कि 12 सदस्यों ने दो दो जगह हस्ताक्षर किए हैं। इस पर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष के आरोपों पर अभी वेरीफाई किया जाना चाहिए। गोपाल भार्गव ने कहा यह तो ऐसा ही हुआ अकेले दौड़े और अब बुलाए। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कर्नाटक का डर था इसलिए ऐसा किया

इससे पहले खुलेआम सरकार गिराने की धमकी दे रहे भाजपा नेताओं ने अब विधान सभा में कमलनाथ सरकार गिराने की धमकी दी । आज विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कमलनाथ सरकार को धमकी दी। उन्होंने कहा कि, “अगर हमारे नंबर 1 और नंबर-2 नेता चाहेंगे तो चौबीस घंटे के भीतर कमलनाथ सरकार गिरा देंगे।”

गोपाल भार्गव ने सदन में कहा कि, “कोई हमें चुनौती देगा और अभिमान वाली बात करेगा तो उसको जवाब दिया जाएगा। जब जनता चाहेगी तो हम मध्य प्रदेश सरकार गिरा देंगे। वहीं सीएम कमलनाथ के फ्लोर टेस्ट वाले बयान उन्होंने कहा कि, मुख्यमंत्री कमलनाथ के कहने पर फ्लोर टेस्ट नहीं करेंगे। जब स्वार्थ के आधार पर सरकार बनती तो कभी भी गिर सकती है।”