जेल डीजी के खिलाफ खरीदी में करोड़ों के भ्रष्टाचार का आरोप

भोपाल । मंदसौर जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष डाॅ. राघवेन्द्रसिंह तोमर ने आरोप लगाया है कि मौजूदा पुलिस महानिदेशक जेल संजय चैधरी ने पूर्व में संचालक खेल एवं युवा कल्याण रहते हुए खरीदी में करोड़ो का भ्रष्टाचार किया है इसलिये इनके खिलाफ भ्रष्टाचार और विभागीय नियुक्तियों में अनियमितताओं की जांच का प्रकरण दर्ज किया जाना चाहिये। इस आशय की शिकायत उन्होंने विशेष पुलिस महानिदेशक आर्थिक अपराध भोपाल को की है।
डाॅ. तोमर ने अपने पत्र में उल्लेख किया है कि खेल एवं युवा कल्याण विभाग में 14 खेल अकादमियों का संचालन किया जाता है। श्री चैधरी ने संचालक रहते हुए गैर जरूरी रूप से करोड़ों रूपये की खरीदारी की जिसमें जमकर भ्रष्टाचार किया गया। यह तमाम सामग्री किसी काम की नहीं थी इसलिये खरीदी के बाद विभाग भवन की छत पर पटक दी गई जहां पड़े-पड़े वह खराब हो गई। इतना ही नहीं तो यह सामग्री बाजार मूल्य से 20 से 30 गुना अधिक दाम पर खरीदकर जन-धन की बर्बादी की गई। उन्होंने पत्र में भोपाल की ही दो कंपनियों अल्पाइन एसोसिएट नेहरू नगर, भोपाल और रवि टेªडर्स, हमीदिया रोड़, भोपाल से की गई खरीदी का जिक्र करते हुए इस संबंध में दस्तावेज भी आर्थिक अपराध शाखा को उपलब्ध करायें हैं। श्री तोमर ने अपने पत्र में बताया है कि 30 सितम्बर 2007 से 10 अक्टूबर 2007 की अवधि में 37वीं राष्ट्रीय जूनियर हाॅकी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था जिसमें लाखों रूपये का भुगतान फर्जी बिल बनाकर संजय चैधरी ने किया है। तब इसकी शिकायत भी की गई थी लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई। तोमर ने आरोप लगाया है कि चैधरी ने संचालक रहते हुए मनमानी खरीदी की बाढ़ ला दी थी जिसका एक उदाहरण यह है कि खेल के नाम पर उन्होंने 40 घोड़े 35 लाख से 50 लाख रूपये प्रति घोड़े की दर से खरीदना बताया जबकि वे 15 से 20 हजार रूपये कीमत वाले खच्चर थे। उन्होंने अलग-अलग समय पर खेल एवं युवा कल्याण विभाग द्वारा 7 करोड़ रूपये की खरीदी की, जिसमें ज्यादातर फर्जी बिल लगाये गये। इसी तरह श्रीमती आरती राय, श्री बिट्टू शर्मा, श्री रवि कोहली और श्री विकास खराड़कर को नियमों के विपरीत अपने विभाग में नियुक्त कर दिया गया जिसकी शिकायतें भी समय-समय पर की जाती रही।
उल्लेखनीय है कि संजय चैधरी के संचालक कार्यकाल को लेकर कांगे्रस के ही विधायक आरिफ मसूद ने 19 जुलाई को विधानसभा में सवाल किया था जिसके जवाब में खेल मंत्री जीतू पटवारी ने स्वीकार किया कि श्री चैधरी के घोटालों की फाइलें गायब हैं और मांगने के बावजूद अधिकारी प्रस्तुत नहीं कर रहे हैं। डाॅ. राघवेन्द्रसिंह तोमर ने आर्थिक अपराध शाखा से मांग की है कि संजय चौधरी ने पद पर रहते हुए शासन को जो हानि पहुंचाई है उसकी विस्तृत जांच की जाये और उनके विरूद्ध प्रकरण कायम किया जाये। साथ ही जांच के दौरान उन्हें जेल महानिदेशक के पद से हटाया जाये।