सीट का विवाद, युवकों ने परिवार को पीटा, ट्रेन में पथराव-देखें वीडियो

कटनी। रीवा जबलपुर शटल में आज शाम भदनपुर स्टेशन में उस वक्त हड़कम्प मच गया जब ट्रेन में भदनपुर के ही 30-40 लड़कों ने एक परिवार जिसमे महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे,जबरदस्त मारपीट की।

साथ ही हंगामा मचाते हुए ट्रेन में पथराव भी किया। इस घटना में इस पीड़ित परिवार सहित कई यात्रियों को चोटें आईं।

एक मासूम के सिर में गम्भीर चोट आईं। घटना की जानकारी कटनी जीआरपी को दी गई । अब सभी उत्पाती युवकों की पुलिस तलाशी में जुट गई है।

इस घटना के बाद सहमे यात्रियों ने कटनी में अपनी आप बीती बताई। जो बेहद ख़ौफ़नाक थी।

जानकारी के अनुसार मैहर से जबलपुर की यात्रा कर रहा तिवारी परिवार रीवा जबलपुर ट्रैन शटल ट्रेन के d-1 कोच में बैठा था।

भदनपुर में कुछ युवक आये और सीट में बैठने को लेकर विवाद करने लगे। बात इतनी बढ़ी कि आरोपियों ने इस परिवार से मारपीट शुरू कर दी।

इसी बीच गांव के कुछ और उपद्रवी भी पहुंच गए और चेन खींच कर ट्रेन रुकवा ली। फिर इन लोगों ने कोच में भारी उपद्रव मचाया। जब ट्रेन आगे बढ़ी तो इन लड़को ने बोगी में पथराव भी किया।

प्रत्यक्ष दर्शियों के अनुसार करीब 30-40 लड़के उत्पात में शामिल थे । कुछ यात्रियों से लूटपाट की भी खबर है। जिसमे तिवारी परिवार की महिलाओं के चैन ओर मंगलसूत्र भी पार हो गए।

तिवारी परिवार जबलपुर के गढ़ा क्षेत्र का रहने वाला है जो मैहर दर्शन करने गया था। ओर महलाओं बच्चों सहित इसमें लगभग 18 लोग शामिल थे।

साथ वारदात में सुनन्दा तिवारी, श्रद्धा तिवारी, राहुल, रोहित, लकी, राजा, रामेश्वर को चोटें आईं। इसमें एक 2 वर्षीय मासूम के सिर में गम्भीर चोट आईं। कटनी में एफआईआर के बाद पुलिस भदनपुर में आरोपियों को ढूढने में जुट गई है। इस घटना के बाद पैसेंजर ट्रेनों में आरपीएफ की सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं।
देखें वीडियो

One thought on “सीट का विवाद, युवकों ने परिवार को पीटा, ट्रेन में पथराव-देखें वीडियो

  • December 10, 2017 at 3:20 AM
    Permalink

    Just about all of the things you point out happens to be supprisingly accurate and it makes me ponder the reason why I had not looked at this in this light before. Your article truly did switch the light on for me as far as this subject matter goes. But there is 1 point I am not necessarily too comfortable with and while I try to reconcile that with the actual central idea of the point, let me see just what all the rest of the visitors have to point out.Well done.

Hide Related Posts