सालभर में तैयार हो जाएगा अबू धाबी का पहला हिंदू मंदिर

Advertisements

न्‍यूज डेस्‍क। स्वामिनारायण संस्था के शीर्ष पुजारियों ने अबू धाबी जाकर विशेष पूजा की है. इसके साथ ही मंदिर का काम शुरू हो गया है. क्या है मंदिर की खासियतें…

सालभर में तैयार हो जाएगा अबू धाबी का पहला हिंदू मंदिर, जानें इसके बारे में सबकुछ पूरा होने के बाद कुछ ऐसा दिखेगा अबू धाबी का मंदिर (प्रतिकृति)

अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला रखने के लिए भूमि पूजन समारोह पूरा हो चुका है. ये समारोह काफी धूमधाम से हुआ, जिसमें बीएपीएस स्वामिनारायण संस्था के शीर्ष लोग मौजूद थे. साथ ही संयुक्त अरब अमीरात के कई मंत्रियों ने भी इस समारोह में शिरकत की

मंदिर की आधारशिला भारत से ले जाए गए गुलाबी पत्थरों से रखी गई है. ये राजस्थान से अबूधाबी भेजे गए थे. ये मंदिर 2020 तक पूरा होगा. इसमें मंदिर के साथ भारतीय संस्कृति की भव्य गैलरीज़ भी होंगी.

कैसा होगा ये मंदिर
ये कुल 55,000 स्क्वायर मीटर या 14 एकड़ में बनेगा. ये अपने आप में काफी अनूठा होगा. इसमें प्रार्थना हॉल के अलावा आगंतुक हाल, भारतीय संस्कृति को दिखाने वाली गैलरीज, बच्चों के लिए खेलने की जगह, फूड कोर्ट, गार्डन के साथ किताबों व गिफ्ट की दुकानें होंगी.

शीला दीक्षित: 81 साल की उम्र में भी क्यों हैं कांग्रेस की फेवरेट और दिल्ली में दमदार

कितने स्तंभ होंगे
इस मंदिर में कुल सात मुख्य स्तंभ होंगे. दुबई में दो हिंदू मंदिर हैं. अब तक अबू धाबी में रहने वाले लोगों को दर्शन करने के लिए दुबई जाना पड़ता था. इस मंदिर के निर्माण के बाद ऐसी समस्या खत्म हो जायेगी.

अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर की आधारशिला पूजन का कार्यक्रम

पत्थरों को कहां तराशा जाएगा
मंदिर का निर्माण स्वामिनारायण संस्थान की देख-रेख में भारतीय शिल्पकार कर रहे हैं. मंदिर का निर्माण 2020 में पूरा हो जाने की उम्मीद है. इस मंदिर मे लगने वाले पत्थरों को भारत में ही अलग-अलग डिज़ाइनों में काटा जायेगा और बाद में इसे यूएई में ही एक-दूसरे से जोड़कर मंदिर का निर्माण किया जायेगा.

2000 कारीगर
इसके लिए भारत में 2000 कारीगर लगातार इसके पत्थरों को तराशेंगे. जिस पिंक सैंडस्टोन का इस्तेमाल इसे बनाने में किया जा रहा है, जयपुर का हवामहल भी उन्हीं पत्थरों से तैयार हुआ है.

क्या है पत्थर की खासियत
बताया जा रहा है कि ये पत्थर 50 डिग्री सेंटीग्रेड में भी गरम नहीं होते हैं और इनमें भीषण गर्मी को झेलने की क्षमता होती है. ये पत्थर राजस्थान में ही मिलते हैं

क्यों फिर सुलग रहा है श्रीलंका, कितने आतंकी संगठन हैं यहां

अबूधाबी से कितनी दूर
दुबई-अबू धाबी हाइवे पर बनने वाला यह अबू धाबी का पहला पत्थर से निर्मित मंदिर होगा. ये अबू धाबी से 30 मिनट की दूरी पर है. न सिर्फ अबू धाबी में बल्कि पश्चिमी एशिया में पत्थरों से बनने वाला यह पहला मंदिर होगा.

बनने के बाद ऐसा होगा अबू धाबी का स्वामिनारायण मंदिर

यूएई में कितने भारतीय
यूएई में करीब 30 लाख भारतीय रहते हैं. जब 2015 में प्रधानमंत्री अबू धाबी गए थे, उस समय मंदिर को ज़मीन देने का वादा किया गया था. इस मंदिर के निर्माण की वजह से दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक आदान-प्रदान होगा व द्विक्षीय रिश्ते मजबूत होंगे.

यूएई में कितने धार्मिक स्थान
यूएई में सैकड़ों मस्जिदों के अलावा 40 चर्च, दो गुरुद्वारे और दो मंदिर है.ये दोनों मंदिर यूएई में हैं

Advertisements