अमेरिकी प्रोफेसर ने कहा, ‘चीन से प्रतिस्पर्धा छोड़िए, अपने भगवान की मूर्तियां भी नहीं बना सकता भारत’

Advertisements

भारत दुनिया की उभरती आर्थिक महाशक्तियों में से एक है। यही वजह है कि इसकी तुलना चीन से की जाती है। मगर एक अमेरिकी प्रोफेसर इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते। वह मानते हैं कि भारत अभी तक छोटी-मोटी चीजें खुद नहीं बना पाता। चीन से प्रतिस्पर्धा की बात तो दूर, वह अपने भगवानों की मूर्तियां भी नहीं बना सकता। भारत में दुकानों पर बिकने वाली हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां चीन निर्मित होती हैं। बटन सरीखी चीजें भी चीन से भारत में आयात होती हैं, सिर्फ इसलिए कि वे सस्ती होती हैं। यह दावा अमेरिका में न्यू जर्सी स्थित रट्जर्स बिजनेस स्कूल (Rutgers Business School) के प्रोफेसर फारक जे.कॉन्ट्रैक्टर (Farok J. Contractor) ने अपने एक लेख में किया है। यह ‘येल ग्लोबल’ नाम की वेबसाइट पर मेड इन चाइनाः मिलियंस ऑफ हिंदू गॉड्स (Made in China: Millions of Hindu Gods) शीर्षक से छपा है। उन्होंने इसमें विस्तार से बताया है कि कैसे कम कीमतों वाले सामान के मामले में चीन भारत को मात देता है। वह भी ड्यूटी और परिवहन कीमतें चुकाने के बाद। प्रोफेसर ने इसके पीछे सात प्रमुख कारण बताए हैं

Advertisements