NTPC : रायबरेली में बड़ा हादसा, प्‍लांट में आग लगने से 10 की मौत, सौ से अधिक घायल

Advertisements

रायबरेली। एनटीपीसी की ऊंचाहार इकाई में बॉयलर फटने से भड़की भीषण आग से अफरातफरी मच गई है।

इस आग में कई लोगों के झुलसकर हताहत होने की आशंका है। फिलहाल राहत और बचाव कार्य जारी है।

अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी हैं लेकिन कोई पुष्टि करने वाला नहीं है। घायलों की संख्या 100 के करीब होने का अनुमान है।

मरने वालों की संख्या ज्यादा हो सकती है क्योंकि फंसे लोगों को निकालते समय जिनकी सांसे थम गई हैं।

उनके शव वहीं एनटीपीसी परिसर में रोक लिए जा रहे हैं। जिनकी सांसें चल रहीं है बस उन्हीं को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है।

मृतक आश्रितों को दो-दो लाख

हादसे की गंभीरता को देखते ऊंचाहार सीएचसी से लेकर जिला अस्पताल तक अलर्ट जारी कर दिया गया। सभी चिकित्सकों और पैरा मेडिकल स्टाफ को आपातकालीन ड्यूटी पर बुला लिया गया है।

बड़ीं संख्या में गंभीर रूप से घायल लोगों को अस्पताल के बाहर और भीतर पीड़ितों के परिवारी जनों की भीड़ है। गंभीर रूप से घायलों को रेफर किया गया है, उनके लिए लखनऊ के केजीएमयू में पचास बेड आरक्षित किए गए हैं।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह को हादसे के पीड़ितों को हर संभव राहत पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

मृतकों के लिए सीएम की ओर से मृतक आश्रितों के लिए दो-दो लाख और गंभीर घायलों 50-50 हजार तथा सामान्य घायलों को 25-25 हजार रुपए आर्थिक सहायता देने की घोषणा की गई है।

यूनिट को सील किया

जानकारी के मुताबिक यह हादसा एनटीपीसी ऊंचाहार की 500 मेगावाट की छठी यूनिट हुआ है। इस हादसे में 25 लोगों को एनटीपीसी अस्पताल में भर्ती कराकर उपचार कराया जा रहा है।

शेष घायलों को निकाला जा रहा है और निकट के अन्य अस्पतालों में भर्ती करा जा रहा है। अधिकारियों ने यूनिट को सील कर दिया है। वहां किसी को जाने की अनुमति नहीं है। लोगों ने चार शवों को निकाले जाते देखा है लेकिन अभी इनके मरने पुष्टि नहीं हो सकी है।

एनटीपीसी के घायल अधिकारी लखनऊ रेफर

राख में दबे लोगों को निकालते वक्त जिनकी सांसे थम चुकी है उनकी बॉडी प्लांट में ही रोक ली जा रही है। जिनके बचने की उम्मीद है, उन्हें ही अस्पताल भेजा जा रहा है।

जिला अस्पताल में भर्ती 14 घायलो में 12 90 फीसदी से ज्यादा जली हालत में आये है। हादसे में एनटीपीसी के एजीएम प्रभात कुमार, एजीएम मिश्रीलाल और एजीएम संजीव सक्सेना भी घायल हो। इन सभी को लखनऊ रेफर किया गया है।

हादसे से जुड़े कुछ खास तथ्य –

यूनिट और उसके आसपास करीब 200 कर्मचारी मौजूद थे।

आग लगने के बाद लपटों में घिरकर सब इधर भागने लगे।

पुलिस और पीएसी के अलावा पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे।

दर्जनों एम्बुलेंस से घायलों को जिला अस्पताल ले जाया गया।

कुछ श्रमिकों की हालत नाजुक देखते लखनऊ रेफर किया गया।

फ़िलहाल हादसा कैसे हुआ इसकी अधिकारी जांच कर रहे हैं।

आग ऊंचाहार एनटीपीसी की 500 मेगावाट यूनिट में लगी।

परियोजना ने हाइड्रो टेस्टिंग में रिकार्ड स्थापित किया है।

बुधवार दोपहर बाद के हादसे ने सबको झकझोर दिया है।

एनटीपीसी बॉयलर फटने से 200 से अधिक मजदूर घायल हैं।

इस भयावह हादसे में 4-5 श्रमिकों के मरने की सूचना है।

Advertisements