इंदौर सहित तीन सीटों को छोड़कर कांग्रेस ने तय किए 17 प्रत्याशी,जबलपुर से विवेक तन्खा

भोपाल। लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने तीन सीटों को छोड़कर शेष 17 सीटों पर नाम तय कर केंद्रीय चुनाव समिति को पैनल के नाम भेज दिए गए हैं। बताया जाता है कि इंदौर, धार, विदिशा और भिंड लोकसभा क्षेत्र में से तीन सीटों के प्रत्याशियों का मामला होल्ड कर लिया गया है।

केंद्रीय चुनाव समिति इन 17 सीटों को कभी भी घोषित कर सकती है। इसके पहले कांग्रेस ने नौ प्रत्याशियों की पहली सूची घोषित की थी।

दिल्ली में मंगलवार दोपहर केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई। सूत्रों के मुताबिक इसमें मप्र के मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ सहित प्रदेश प्रभारी महासचिव दीपक बाबरिया शामिल हुए। लंबी बैठक के बाद प्रदेश के 17 लोकसभा क्षेत्रों के पैनल केंद्रीय चुनाव समिति को सौंप दिए गए।

बताया जा रहा है कि दोपहर बाद सूची को अनुमोदन के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को भेजा गया था। इनमें से कुछ सीटों पर दो नाम भी हैं। जिन सीटों पर दो नाम हैं, उनमें सतना लोकसभा क्षेत्र भी है, जहां पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष राजेंद्र कुमार सिंह के साथ राजाराम त्रिपाठी का नाम भी जोड़ा गया है।

बताया जाता है कि जिन सीटों के प्रत्याशियों के नामों को केंद्रीय चुनाव समिति में भेजा गया है, उनमें ग्वालियर से अशोक सिंह, गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया, खंडवा से अरुण यादव, देवास से प्रहलाद टिपानिया, मुरैना से रामनिवास रावत, सागर से प्रभु सिंह, उज्जैन से नीतिश सिलावट, खरगोन से प्रवीणा बधान, रीवा से सिद्धार्थ राज तिवारी, दमोह से रामकृष्ण कुसमरिया, सीधी से अजय सिंह, जबलपुर से विवेक तन्खा, छिंदवाड़ा से नकुलनाथ, मंडला से भूपेंद्र वरकड़े और राजगढ़ से शिवनारायण मीणा के नाम शामिल हैं।

हालांकि ग्वालियर को लेकर अभी भी असमंजस बना है, क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी प्रियदर्शनी राजे को पार्टी चुनाव लड़वाना चाहती है। गौरतलब है कि पिछले महीने लोकसभा चुनाव के प्रत्याशियों की कांग्रेस की पहली सूची में नौ उम्मीदवारों का एलान हुआ था, जिसमें भोपाल, शहडोल, बालाघाट, होशंगाबाद, बैतूल, टीकमगढ़, खजुराहो, रतलाम और मंदसौर शामिल हैं। इनमें से बैतूल, बालाघाट, टीकमगढ़ और शहडोल के प्रत्याशियों का विरोध हुआ है।