जबलपुर में 16 को कैबिनेट…थैंक्यू कमलनाथ-तन्खा

जबलपुर, नगर प्रतिनिधि। मध्यप्रदेश केबिनेट की बैठक अब 16 फरवरी को शक्तिभवन में होगी। पहले इसके लिए 26 फरवरी की तैयारियां थीं लेकिन आज इसे 16 फरवरी को आयोजित कराने का निर्णय ले लिया गया। जबलपुर में कैबिनेट की बैठक आयोजित करने राज्यसभा सदस्य विवेक तन्खा प्रयासरत थे। अंतत श्री तन्खा के प्रयासों को सफलता मिली। 16 फरवरी को शक्ति भवन के सभागार में एमी केबिनेट की बैठक मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में होगी। सांसद श्री तन्खा ने इसकी पुष्टि की है। शक्ति भवन के कांफ्रेंस हाल में प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ सहित 28 मंत्री, चीफ सेकेट्री व उनके आला प्रशासनिक अधिकारी कैबिनेट बैठक में शामिल होंगे। कलेक्टर छवि भारद्वाज को भोपाल से बैठक की तैयारी करने के निर्देश दिए गए हैं।अब शहर विकास से जुड़े लंबित प्रोजेक्ट को लेकर भी बड़े निर्णय इस बैठक लिए जा सकते हैं। जबलपुर में कैबिनेट की बैठक आहूत करने का मुद्दा राज्य सभा सदस्य विवेक कृष्ण तन्खा ने उठाया था। इसके बाद वित्त मंत्री तरूण भनोत व सामाजिक न्याय मंत्री लखन घनघोरिया ने भी प्रयास शुरू किए। शहर के सामाजिक, औद्योगिक संगठनों ने भी बैठक आयोजित करने को अपना समर्थन दिया। इससे पहले कई महत्वपूर्ण बैठक सीएम या मंत्रियों के स्तर पर ली जा चुकी है, लेकिन कैबिनेट बैठक पहली बार शहर में करने का निर्णय सामने आया है। शहर में 15 फरवरी से ही प्रदेश के सभी मंत्रियों व आला प्रशासनिक अधिकारियों का आगमन होने लग जाएगा। कलेक्टर ने सर्किट हाउस से लेकर होटलों में वीआईपी गेस्ट के रुकने रहने का इंतजाम अफसरों को करने के निर्देश दिए हैं। रामपुर स्थित शक्ति भवन के कांफ्रेंस हाल को भी व्यवस्थित किया जा रहा है। इसके अलावा मंत्रियों, अफसरों के रूट चार्ट को लेकर भी तैयारी की जाएगी। शहर विकास से जुड़े महत्वपूर्ण लंबित प्रोजेक्ट की फाइल भी तैयार की गई है। जिनके बारे में भोपाल तक जानकारी भेजी जाएगी।
सभी विभागों के साथ बैठक
जिले के समस्त विभागों के ऐसे प्रोजेक्ट जिनमें विभागीय काम चल रहा है उनकी समीक्षा शुक्रवार को कलेक्टर छवि भारद्वाज ने की । 16 फरवरी को जबलपुर में प्रदेश मंत्रिमंडल(कैबिनेट) की बैठक के मद्देनजर यह समीक्षा बैठक सुबह 10:30 बजे से बुलाई । इस बैठक में पूरी हो चुके प्रोजेक्ट पर भी चर्चा की गई। रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय एवं मध्य प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपतियों को भी इस बैठक में आमंत्रित किया गया है। उधर शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा विभाग, नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण, मध्य प्रदेश सड़क विकास निगम, लोक निर्माण विभाग, राज्य भंडार निगम के वरिष्ठ अधिकारियों को भी बैठक में मौजूद रहने कहा गया है।