डॉक्टर की हैवानियत: प्‍यार और डर बना ड्राइवर की हत्या का कारण !



भोपाल। मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में एक डॉक्टर की हैवानियत का हैरतअंगेज मामला सामने आया है। डॉक्टर ने पहले अपने ड्राइवर की बेरहमी से हत्या की और फिर सबूत मिटाने के लिए उसकी लाश के टुकड़े कर एसिड में गला दिए। आरोप है कि डॉक्टर के ड्राइवर की पत्नी से अवैध संबंध थे।

जानकारी के अनुसार होशंगाबाद के आनंदनगर निवासी डॉक्टर सुनील मंत्री इटारसी के सरकारी अस्पताल में हड्डी रोग विशेषज्ञ के पद पर पदस्थ हैं। उनकी पत्नी का एक साल पहले निधन हो चुका है। वह घर पर ही एक बुटीक चलाती थीं। मृतक ड्राइवर वीरू उर्फ वीरेंद्र पचौरी की पत्नी भी बुटीक पर काम करती थीं। लेकिन सुषमा के निधन के बाद भी उसका डॉक्टर के घर आना-जाना था।

वीरू को डॉक्टर और पत्नी के बीच संबंध का शक था। इस पर उसका डॉक्टर से विवाद भी हुआ था। वह डॉक्टर को अकसर धमकाता रहता था। इससे परेशान होकर डॉक्टर ने कुछ दिन पहले ही 16 हजार रुपये वेतन पर वीरू को अपना ड्राइवर रख लिया था।

आईजी होशंगाबाद केसी जैन ने बताया कि वीरू ने सोमवार को डॉक्टर से दांत में दर्द की शिकायत की थी। इस पर डॉक्टर ने उसे बेहोशी का इंजेक्शन देने के बाद गला रेत दिया। जैन के मुताबिक एसिड के एक व्यापारी ने खबर की थी कि डॉक्टर काफी मात्रा में एसिड खरीदकर ले गए हैं। इसके अलावा मोहल्ले के लोगों ने भी एसिड की गंध आने की सूचना दी थी।

मंगलवार दोपहर पुलिस की टीम डॉक्टर के घर पर पहुंची तो पूरा दृश्य देखकर दंग रह गई। पुलिस जब पहुंची तो आरोपी डॉक्टर कमर के नीचे के हिस्से को ठिकाने लगा रहा था। कई टुकड़े एसिड में गले हुए थे। पुलिस मृतक ड्राइवर वीरू की पत्नी से भी पूछताछ कर रही है।