सरगर्मी से हो रही है शहर के बंटी और बबली की तलाश

व्यवसायी के साथ ब्लेकमेलिंग करने वाले छुट्टन और ज्योति फरार
जबलपुर। कई सालों से अपने ठगी की कारगुजारियों को अंजाम देने वाले शहर के बंटी और बबली की कारगुजारियां अब सामने आनी शुरू हो गयी है। घमापुर थाना पुलिस फरार इन दोनों की सरगर्मी से तलाश कर रही है। क्षेत्र के ही व्यवसायी के साथ पुलिसकर्मी के सहयोग से ब्लेकमेल करने वाले शातिर ठग छुट्टन की तलाश मे जुटी हुई है। शहर के इन बंटी बबली ने कई लोगों को शिकार बनाया है,जो अब पुलिस के सामने आकर अपनी व्यथा सुना रहे है। पुलिस का कहना है कि छुट्टन और ज्योति पटेल दोनों एक साथ फरार है और उनकी सभी संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है। शनिवार को भी पुलिस ने छुट्टन के साथ जुड़े लोगों से पूछताछ की जिसमें पुलिस को कई अहम जानकारिया हासिल हुई है।
सामने आने लगे कई मामले
पुलिस के अनुसार छुट्टन और ज्योति द्वारा ब्लेकमेलिंग के कई मामले सामने आना शुरू हो गए है शहर के कई लोगों को इन दोनों ने मिलकर ब्लेकमेल किया और उनसे मोटी रकम वसूली है। शहर मे जैसे ही घमापुर पुलिस ने छुट्टन की कारगुजारियो से पर्दा हटाया तो इन दोनों की जुगलबंदी के शिकार कई लोग सामने आने लगे है। जानकारी लगी है कि इन दोनो द्वारा मेडिकल में केंटीन का संचालन कर रहे शख्स को भी अपना शिकार बनाया और उससे लगभग पांच लाख की वसूली की।
कटनी और नरसिंहपुर मे भी है पीडि़त
शातिर ठग छुट्टन ने ठगी की वारदात को न केवल शहर बल्कि कटनी और नरसिंहपुर मे भी ठगी की है कटनी मे सोना डबल करने के नाम पर तो नरसिंहपुर मे प्रख्यात बाबा बनकर लोगों की आस्था के साथ खिलवाड़ किया। छुट्टन ने यहां पूर्व मे अपना प्रचार जमकर करवाया और लोगों मे अपने प्रति आस्था पैदा की उसके बाद वह लोगों को आस्था के नाम पर लूटने लगा।
राजसी ठाटबांट है छुट्टन के
हालांकि छुट्टन ने कभी भी अपनी जीविकोपार्जन के लिये मेहनत नही की न ही कही नौकरी बावजूद इसके उसके ठाटबाट देखकर कोई भी उससे भ्रमित हो जाये, गले मे मोटी सोने की चेन और कार के साथ वह अपना शिकार तय कर उसे अपने जाल मे फंसाता था।
वर्जन
छुट्टन और ज्योति को लेकर पुलिस हर जगह दबिश दे रही है, वही कई लोग अब सामने आने शुरू हो गए है।
ब्रजेश मिश्रा, थाना प्रभारी घमापुर थाना